3/19/2021 10:04:00 pm
0

विद्युत मंत्री ने की ग्राम उजाला कार्यक्रम की शुरुआत - 

कार्यशील पुराने तापदीप्त बल्बों के बदले प्रत्येक ग्रामीण परिवार को 10 रुपये में मिलेंगे एलईडी बल्ब 

  • केंद्रीय विद्युत मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री आर के सिंह ने आज 19 मार्च को बिहार के आरा में आयोजित एक वर्चुअल समारोह में ग्राम उजाला कार्यक्रम की शुरुआत की।
  • अभी भी हमारी ग्रामीण आबादी छूट वाली सस्ती एलईडी का खर्च उठाने में असमर्थ है। इसके चलते ही भारत सरकार ने अब ग्राम उजाला- ग्रामीण भारत के लिए अनुकूल कार्यक्रम बनाया है, जो विशिष्ट और अभिनव रूप से कार्बन वित्त पर आधारित है।
  • इस कार्यक्रम में कार्यशील पुराने तापदीप्त बल्बों के बदले प्रत्येक ग्रामीण परिवार के लिए केवल 10 रुपये में एलईडी उपलब्ध होंगे। प्रत्येक परिवार को अधिकतम पांच एलईडी बल्ब मिलेंगें।
  • ग्राम उजाला कार्यक्रम का भारत की जलवायु परिवर्तन कार्यक्रम की कार्रवाई पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा।
  • अगर भारत में सभी 30 करोड़ बल्बों को बदल दिया जाए तो प्रत्येक साल 40,743 मिलियन किलोवाट ऊर्जा की बचत होगी। वहीं 22,743 मेगावाट/वर्ष की चरम मांग से बचा जा सकेगा और प्रति वर्ष 370 लाख टन कार्बन डाईऑक्साइड की कटौती हो पाएगी।
  • यह कार्बन क्रेडिटों का उपयोग करने से संबंधित एक अभिनव मॉडल पर आधारित एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहल है।
  • ग्राम उजाला न केवल ऊर्जा दक्षता को बढ़ाकर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ हमारी लड़ाई को एक गति देगा, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों के लिए जीवन के बेहतर मानक,वित्तीय बचत और बेहतर सुरक्षा भी लाएगा।
  • इसकार्यक्रम के तहत ग्रामीण उपभोक्ताओं को कार्यशील तापदीप्त बल्ब जमा करने के बदले 3 साल की वारंटी के साथ 7 वाट और 12 वाट के एलईडी बल्ब दिए जाएंगे।
  • ग्राम उजाला कार्यक्रम को केवल पांच जिलों के गांवों में लागू किया जाएगा और एक उपभोक्ता तापदीप्त बल्बों को बदलकर अधिकतम पांच एलईडी बल्ब प्राप्त कर सकते हैं।
  • इन ग्रामीण परिवारों को अपने उपयोग का हिसाब रखने के लिए घरों में मीटर भी लगवाने होंगे। इसके अलावा कार्बन क्रेडिट प्रलेखन को शाइन कार्यक्रम की गतिविधियों में शामिल करने के लिए संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के मान्यता प्राप्त सत्यापनकर्ताओं को भेजा जाएगा।
  • शाइन कार्यक्रम की गतिविधियों के तहत स्वैच्छिक कार्बन मानक संबंधित सत्यापन के लिए खरीदारों की जरूरतों के आधार पर एक विकल्प के साथ कार्बन क्रेडिटों को तैयार किया जाएगा। वहीं बाजार के साथ प्रारंभिक विचार-विमर्श पर आधारित एक खुली प्रक्रिया के माध्यम से भी कार्बन क्रेडिट खरीदारों को मांगा जाएगा। एलईडी लागत पर शेष लागत और मार्जिन को प्राप्त कार्बन क्रेडिट के माध्यम से पुन: प्राप्त किया जाएगा।
  • ग्राम उजाला कार्यक्रम के तहत कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (सीईएसएल) ग्रामीण क्षेत्रों में 10 रुपये प्रति बल्ब की सस्ती कीमत पर उच्च गुणवत्ता वाले एलईडी बल्बों को वितरित करेगी।
  • सीईएसएल, विद्युत मंत्रालय के तहत एक सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू)- एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है।
  • इस कार्यक्रम के पहले चरण में आरा (बिहार), वाराणसी (उत्तर प्रदेश), विजयवाड़ा (आंध्र प्रदेश), नागपुर (महाराष्ट्र) और पश्चिमी गुजरात के गांवों में 1.5 करोड़ एलईडी बल्बों का वितरण किया जाएगा।
  • ग्राम उजाला कार्यक्रम को पूरी तरह से कार्बन क्रेडिट के माध्यम से वित्त पोषित किया जाएगा और यह भारत में इस तरह का पहला कार्यक्रम होगा।
  • ग्राम उजाला कार्यक्रम का भारत की जलवायु परिवर्तन कार्रवाई पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। इससे प्रतिवर्ष 2025 मिलियन किलोवाट घंटा ऊर्जा की बचत होगी और प्रतिवर्ष 1.65 मिलियन टन कार्बन डाईऑक्साइड की कमी होगी।
  • वहीं यह कार्यक्रम 10 रुपये प्रति बल्ब की सस्ती कीमत पर बेहतर प्रकाश प्राप्त करने में लोगों को सक्षम करेगा। इसके अलावा यह ग्रामीण नागरिकों के लिए जीवन के बेहतर मानक, वित्तीय बचत, अधिक आर्थिक गतिविधि और सुरक्षा की शुरुआत करेगा और एक टिकाऊ भविष्य को प्राप्त करने में भी मदद करेगा। 

Union Minister of State (Independent Charge) for Ministry of Power and Ministry of New and Renewable Energy and Minister of State, Ministry of Skill Development and Entrepreneurship ,Shri R K Singh launched the GRAM UJALA programme in Arrah, Bihar through a virtual event today .

While speaking at the event the Power Minister said that  our rural population was still unable to afford discounted LEDs. This is why we have now created GRAM UJALA – a customized program for rural India, based uniquely and innovatively on carbon finance. LEDs will be available for only Rs 10 each for each household, in exchange for working condition old incandescent lamps. Each household will get up to 5 LEDs.

Power Minister further stated that the GRAM UJALA programme will have a significant impact on India’s climate change action. If all 300 million lights in India were replaced, the total energy savings would be 40,743 million kWh/year, avoided peak demand of 22,743MW/year and CO2 reductions of 37 million tons per year.

Mr. Alok Kumar, Secretary, Ministry of Power said that  this is a very important initiative based on an innovative model utilising Carbon Credits. Gram Ujala will not only give a fillip to our fight against climate change by increasing energy efficiency, but also usher in a better standard of life, financial savings, and better safety for the citizens in rural areas.

Under the programme, 7 watt and 12-Watt LED bulbs with 3 years warranty will be given to rural consumers against submission of working Incandescent bulbs. The Gram Ujalaprogramme will be implemented in villages of the 5 districts only and consumers can exchange a maximum of 5 LED bulbs. These rural households will also have metres installed in their houses to account for usage. Further on, carbon credit documentation will be sent to UN accredited validators for inclusion into the Shine Program of activities. Carbon credits will be prepared under the Shine Program of Activities with an option for verifying under the Voluntary Carbon Standard, depending on the needs of buyers. Carbon Credit Buyers will also be sought through an open process based on initial discussions with the market. The balance cost and margin on the LED cost will be recouped through the carbon credits earned.

With price being one of the principal barriers, the GRAM UJALA programme has been designed to support widespread distribution by removing the chief barrier for rural consumers. In addition, the energy savings garnered will reduce household’s energy outlay, enabling higher disposable income and savings.

The programme will provide clean energy access and make a significant contribution towards mitigating climate change and achieving a sustainable future .Under  the GRAM UJALA programme, CESL will distribute high quality LED bulbs, at an affordable cost of 10 rupees per bulb in rural areas. Convergence  Energy Services Limited (CESL), is a wholly owned subsidiary of Energy Efficiency Services Limited (EESL), a PSU under Ministry of Power. In the first phase of this programme, 15 million (1.5 crore) LED bulbs will be distributed across villages of Aarah (Bihar), Varanasi (Uttar Pradesh), Vijaywada (Andhra Pradesh), Nagpur (Maharashtra), and village in western Gujarat. Gram Ujalaprogramme will be financed entirely through carbon credits and will be the first such programme in India.

The GRAM UJALA programme will have a significant impact on India’s climate change action energy savings of 2025 million KWh/year and CO2 reductions of 1.65 million T CO2/year. The programme will enable better illumination, at an affordable price of INR 10/bulb. This will usher in a better standard of life, financial savings, more economic activity, better safety for rural citizens and help in achieving a sustainable future.

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.