5/21/2015 11:41:00 am
23


कालीबंगा टीला


कालीबंगा राजस्थान के हनुमानगढ़ ज़िले में घग्घर नदी (प्राचीन सरस्वती नदी) के बाएं शुष्क तट पर स्थित है। कालीबंगा की सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक है। इस सभ्यता का काल 3000 .पू. माना जाता है, किन्तु कालांतर में प्राकृतिक विषमताओं एवं विक्षोभों के कारण ये सभ्यता नष्ट हो गई 1953 . में कालीबंगा की खोज का पुरातत्वविद् श्री . घोष (अमलानंद घोष) को जाता है इस स्थान का उत्खनन कार्य सन् 1961 से 1969 के मध्य 'श्री बी. बी. लाल', 'श्री बी. के. थापर', 'श्री डी. खरे', के. एम. श्रीवास्तव एवं 'श्री एस. पी. श्रीवास्तव' के निर्देशन में सम्पादित हुआ था कालीबंगा की खुदाई में प्राक् हड़प्पा एवं हड़प्पाकालीन संस्कृति के अवशेष प्राप्त हुए हैं। इस उत्खनन से कालीबंगा 'आमरी, हड़प्पा कोट दिजी' (सभी पाकिस्तान में) के पश्चात हड़प्पा काल की सभ्यता का चतुर्थ स्थल बन गया। 1983 में कालीबंगा में एक पुरातत्वीय संग्रहालय स्थापित किया गया था, जिसमें इस हड़प्पा स्थल पर 1961-69 के बीच की गई खुदाई से प्राप् सामग्रियों को रखा गया है। यह स्थान प्राचीन समय में चूड़ियों के लिए प्रसिद्ध था। ये चूडियाँ पत्थरों की बनी होती थी। इसमें मिली काली चूड़ियों की वजह से ही इसे कालीबंगा कहा गया। पंजाबी में 'वंगा' का अर्थ चूडी होता है, इसलिए काली वंगा अर्थात काली चूडियाँ।

यहाँ तीन टीले के प्राप्त हुए है, जिनमें से बीच में एक बड़ा टीला (KLB-2), इससे छोटा एक टीला (KLB -1) पश्चिम में और सबसे छोटा टीला (KLB -3) पूर्व में स्थित है।

प्राप्त टेराकोटा

सिन्धु-पूर्व सभ्यता का दुर्ग-

कालीबंगा में हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो की तरह सुरक्षा दीवार से घिरे दो टीले पाए गए हैं। कुछ पुरातत्वविज्ञों के अनुसार यदि हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो को सैंधव सभ्यता की प्रथम दो राजधानियां माना जा सकता है तो इस स्थान को सैंधव सभ्यता की तृतीय राजधानी कह सकते हैं। यहाँ के पूर्वी टीले की सभ्यता प्राक्-हड़प्पाकालीन थी। कालीबंगा में सिन्धु-पूर्व सभ्यता की इस बस्ती में दुर्ग के भी प्रमाण मिले हैं तथा यह किलेबन्दी कच्ची ईंटों से बनी थी, जो नगर की सुरक्षा का साधन थी। अन्य हड़प्पा कालीन नगरों की भांति कालीबंगा दो प्रकार के दुर्गों में विभाजित था- नगर दुर्ग (या गढ़ी) और निम्न दुर्ग नगर दुर्ग समान्तर चतुर्भुजाकार का था। यहाँ का किला 30x20x10 सेमी की मिट्टी की कच्ची ईंटों से निर्मित है किलेबन्दी के उत्तरी भाग में प्रवेश मार्ग था, जिससे सरस्वती नदी तक पहुँच सकते थे।

नगर नियोजन-

पुरातत्वविद् मानते हैं कि यहाँ की खुदाई ने हड़प्पा सभ्यता के महानगर का एक नक्शा तैयार किया है, जो शायद सही मायने में भारतीय सांस्कृतिक विरासत का प्रथम नगर था। कालीबंगा में हुए उत्खनन में प्राचीन नगर के अस्तित्व के प्रमाण प्राप्त हुए हैं, जिन्हें 5 स्तरों में देखा जा सकता है। ये नगर मिट्टी की चौड़ी दीवारों से बने थे। ये दीवारें मिट्टी की ईंटों से बनाई जाती थी। ईंटों की चुनाई करने के बाद इन पर प्लास्तर कर दिया जाता था। साधारणतया इन मकानों में 4-5 बड़े कमरे, एक दालान (आँगन) कुछ छोटे कमरे होते थे। मकानों के आगे चबूतरे थे। कमरों के फर्श को चिकनी मिट्टी से लीपा जाता था। कहीं-कहीं पकी हुई ईंटों के फर्श भी प्राप्त हुए हैं। ये ईंटें शायद धूप में पकाई जाती थी। अपशिष्ट जल के निकास के लिए गोलाकार भांड थे, जिन्हें एक-दूसरे पर लगा कर रखा जाता था, जिससे पानी इधर-उधर नहीं फैलकर जमीन में सोख लिया जाता था। छतें मिट्टी और लकड़ी की बल्लियों मिट्टी की बनाई जाती थी। छत पर जाने के लिए सीढियां थी। नगर की सड़के चौड़ी और पक्की थी। सुरक्षा के लिए नगर के चारों तरफ चौड़ी दीवार और खाइयाँ बनी थी। नगर के दूसरे किनारे पर बड़े कमरे, कुआं तथा दालान बना है, जिससे अनुमान लगता है कि नगर के आसपास सुरक्षा हेतु दुर्ग व्यवस्था थी। यहाँ पर मोहनजोदड़ो जैसी उच्च-स्तर की जल निकास व्यवस्था का आभास नहीं होता है। किन्तु यह जरुर है कि यद्यपि भवनों का निर्माण कच्ची ईंटों से किया जाता था, किंतु नालियों, कुओं तथा स्नानागारों में पकाई गई ईंटों का प्रयोग किया गया है।
भोजन पकाने की व्यवस्था-
कालीबंगा के मकानों में दो प्रकार के चूल्हे प्राप्त हुए हैं
1. जमीन से कुछ अन्दर 2. जमीन के ऊपर। 
नीचे वाले चूल्हों में ईंधन देने तथा धुंआ निकालने के लिए विशेष छेद बने थे। ये चूल्हे वर्तमान तंदूर के लगभग समान हैं।
बैलगाड़ी का अस्तित्व-
यहाँ प्राप्त हुए मिट्टी के खिलौनों, पहियों एवं मवेशियों की हड्डियों पर हुई शोध में पुरातत्वविद इन्हें बैलगाड़ी के अस्तित्व का अप्रत्यक्ष प्रमाण मानते हैं।
हवन कुण्डों के साक्ष्य-
कालीबंगा के दुर्ग टीले के दक्षिण भाग में मिट्टी और कच्चे ईटों के बने हुए पाँच चबूतरे मिले हैं, जिसके शिखर पर हवन कुण्डों के होने के साक्ष्य मिले हैं।
कृषि-
कालीबंगा में नगर सुनियोजित ढंग से बसाये गए थे यहाँ के नागरिक सभ्य एवं समझदार थे यहाँ एक टीले की खुदाई से जुते हुए खेत के अवशेष प्राप्त हुए हैं जिससे ज्ञात होता है कि यहाँ के नागरिकों के जीविकोपार्जन का साधन कृषि था यहाँ प्राप्त जुता हुआ खेत शायद सबसे प्राचीन जुता हुआ खेत है। यहाँ प्राप्त खेत विश्व के प्राचीनतम खेतों का नमूना है माना जाता है कि संस्कृत साहित्य में वर्णित ''बहुधान्यक क्षेत्र'' यही है इन खेतों में दो तरह की फसलों को एक साथ उगाया जाता था कालीबंगा में मिले 'प्राक् सैंधव संस्कृति' के एक जुते हुए खेत के कुंडों के बीच की दूरी पूर्व से पश्चिम की ओर 30 से.मी. है और उत्तर से दक्षिण की ओर 1.10 मीटर है। माना जाता है कि कम दूरी के खांचों में चना एवं अधिक दूरी के खाचों में सरसों बोई जाती थी। इनमें ग्रिड की तरह धारियों वाले निशान है।
लघु पाषाण उपकरण-
यहाँ के उत्खनन में लघु पाषाण उपकरण, मणिक्य, मिट्टी के मनके, शंख, कांच मिट्टी की चूड़ियां, खिलौना, गाड़ी के पहिए, बैल की खण्डित मृण्मूर्ति, सिलबट्टे आदि के अवशेष प्राप्त हुए हैं।
ताँबे के औज़ार व मूर्तियाँ-

ताँबे के औज़ार

इस युग में पत्थर ताँबे दोनों प्रकार के उपकरण प्रचलित थे, परंतु पत्थर के उपकरणों का प्रयोग अधिक होता था। यहाँ से दैनिक जीवन प्रयुक्त होने वाली वस्तुएँ प्राप्त हुई हैं। कालीबंगा में उत्खनन से प्राप्त पुरावशेषों में ताँबे (धातु) से निर्मित औज़ार, हथियार तथा मूर्तियाँ प्राप्त हुई हैं, जिससे पता चलता है कि ये मानव प्रस्तर युग से ताम्रयुग में प्रवेश कर चुका था।

ताँबे का बैल


प्राप्त मुहरें-
प्राप्त मुहरें
कालीबंगा से शैलखड़ी की मुहरें और मिट्टी की छोटी मुहरे महत्त्वपूर्ण वस्तुएं प्राप्त हुई हैं। मिट्टी की मुहरों पर सरकण्डे के छाप या निशान से यह लगता है कि इनका प्रयोग पैकिंग के लिए किया जाता रहा होगा। कालीबंगा से हड़प्पा सभ्यता की मिट्टी पर बनी मुहरें मिली हैं, जिन पर वृषभ अन्य पशुओं के चित्र सैन्धव लिपि से मिलती जुलती लिपि में अंकित लेख है जिन्हें अभी तक पढ़ा नहीं जा सका है। वह लिपि दाएँ से बाएँ लिखी जाती थी। एक सील पर किसी अराध्य देव की आकृति है। कालीबंगा से प्राप्त मुहरें 'मेसोपोटामिया'  की मुहरों के जैसी है।



 
तौल के बाट-
तौल के बाट

यहाँ पर प्राप्त पत्थर से बने बाट से पता चलता है कि यहाँ का मनुष्य तौलने के बाट का उपयोग करना सीख गया था। मोहरों एवं तौल के बाट से पता चलता है कि यहाँ के लोग व्यापार भी करते थे।

ईटें-
कालीबंगा की प्राक्-सैंधव बस्तियों में प्रयुक्त होने वाली कच्ची ईटें 30x20x10 सेमी, 40x20x10 सेमी एवं 30x15x7.5 सेमी आकार की होती थी। यहाँ से मिले मकानों के अवशेषों से पता चलता है कि सभी मकान कच्ची ईटों से बनाये गये थे, किन्तु नालियों एवं कुओं में पक्की ईटों का प्रयोग किया गया था। यहाँ पर कुछ ईटें अलंकृत भी पायी गई हैं। कालीबंगा का एक फर्श पूरे हड़प्पा-काल का एक मात्र ऐसा उदाहरण है, जहाँ अलंकृत ईटों का प्रयोग किया गया है। इस पर प्रतिच्छेदी वृत का अलंकरण किया गया है।
मूर्तियाँ-
ताँबे या मिट्टी की बनी मूर्तियाँ, पशु-पक्षी मानव कृतियाँ मिली हैं जो मोहनजोदड़ो हड़प्पा के  समान हैं। पशुओं में बैल, बंदर पक्षियों की मूर्तियाँ मिली हैं जिससे पता लगता हैकि पशु-पालन, कृषि में बैल का उपयोग किया जाता था।
अंत्येष्ठी स्थल-
कालीबंगा के दक्षिण-पश्चिम में शवों को गाड़ने के लिए अंत्येष्ठी स्थल था। यहाँ शव विसर्जन के 37 उदाहरण मिले हैं। यहाँ अंत्येष्ठी संस्कार की तीन विधियां प्रचलित थी-
1. पूर्व समाधीकरण
2. आंशिक समाधिकरण
3. दाह संस्कार
यहाँ पर बच्चे की खोपड़ी मिले है जिसमें 6 छेद हैं, इसे 'जल कपाली' या 'मस्तिष्क शोध' की बीमारी का पता चलता है। यहाँ से एक कंकाल मिला है जिसके बाएं घुटने पर किसी धारदार कुल्हाड़ी से काटने का निशान है।
भूकम्प के साक्ष्य-
यहाँ से भूकम्प के प्राचीनतम प्रमाण मिलते हैं। यह माना जाता है कि सम्भवतः घग्घर नदी के सूख जाने से कालीबंगा का विनाश हो गया।

23 टिप्पणियाँ:

  1. Replies
    1. सराहना के लिए आभार

      Delete
  2. I can Say Hanumangarh or Kalibanga is the place where Harappa is still alive

    ReplyDelete
  3. I will anytime would like to visit Harappa our old culture

    ReplyDelete
  4. Cheap Jaipur Tour Packages- Travel Tourster is best travel agencies in India that provided cheapest tour packages in jaipur, best travel agent in jaipur and top tour operators in jaipur.
    Jaipur tour packages

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. धन्यवाद् आभार आपका

      Delete
  6. धन्यवाद् आभार आपका...

    ReplyDelete
  7. Very good bro carryonn air bhi dalo

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you so much. Will try to give more post about Rajasthan.

      Delete
  8. Replies
    1. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete
  9. rajasthan JEN 2016 DEGREE KE PAPER KA QUESTION NO 1 BIJOLIYA KA SHILALEKH AAPKE YAHI SE AAYA THA
    AB RAJ JEN 2020 K LIYE KOI SUJHAV HOTO DEVE _/\_

    ReplyDelete
  10. http://4.bp.blogspot.com/-dk-HMifBkqY/UYMbtxBFA9I/AAAAAAAAIR8/tiMcbIaB2Hw/s000/03.gifhttp://1.bp.blogspot.com/-XBxx6QhacwM/UYMb5xyNKcIhttp://3.bp.blogspot.com/-ppYlsGTMV7Q/UYMb7ltzzvI/AAAAAAAAITc/rF1x_ops-c8/s000/12http://4.bp.blogspot.com/-AWGWwZQcpdI/UYMccg7cp1I/AAAAAAAAIVk/UE3gIKRXukM/s000/29.gihttp://3.bp.blogspot.com/-jfhIw5BIw9k/UYMcePRzGRI/AAAAAAAAIVs/gq5wDQ-Y9mg/s000/30.giff.gif/AAAAAAAAITM/k4U2Wjiojy0/s000/10.gifhttp://4.bp.blogspot.com/-E0DgxgPd5ho/UYMceoMD6iI/AAAAAAAAIV0/dS8XPnGw1No/s000/31.gifhttp://4.bp.blogspot.com/-U-vla0P5vz8/UYMb2M3xOTI/AAAAAAAAISs/yY3b2tLltRA/s000/05.gifhttp://4.bp.blogspot.com/-W1dkBCdsBkA/UYMbwLDn90I/AAAAAAAAISE/tbXvQnYBxK4/s000/06.gif

    ReplyDelete
  11. Thanks for sharing such beautiful information with us. I hope will you share more detailswhat is a back links

    ReplyDelete
  12. good or knowledgeable ontent . write this type content regular . please visit caseearn.com .

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.