6/23/2019 08:44:00 pm
6

भाकृअनुप - सरसों अनुसंधान निदेशालय, सेवर (भरतपुर)

Rapeseed Mustard Research Directorate Sewar Bharatpur 




ICAR-Directorate of Rapeseed-Mustard Research

(Indian Council of Agricultural Research) Sewar, Bharatpur 321303 (Rajasthan), India

 

 

कब हुई 'राष्ट्रीय सरसों अनुसन्धान केंद्र' की स्थापना -

 

इतिहास-

  • देश में तिलहनों में सुधार करने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) द्वारा अप्रैल, 1967 में ''अखिल भारतीय तिलहन समन्वित अनुसंधान परियोजना (AICRPO)'' की स्थापना की गई थी। 

  • पांचवीं योजना (1974-79) में तिलहनों, विशेष रूप से राई-सरसों पर अनुसंधान कार्यक्रम को और भी सुदृढ़ बनाया गया। 

  • तद्नुसार, 28 जनवरी 1981 को हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार में राई-सरसों के लिए प्रथम परियोजना समन्वय इकाई की स्थापना की गई। 

  • सातवीं योजना (1992-97) के दौरान, भा.कृ.अनु.प. ने 1990 में गठित कार्यबल की सिफारिश के आधार पर राज्य कृषि विभाग, राजस्थान सरकार के ''अनुकूलन परीक्षण केन्द्र, सेवर, भरतपुर'' में राई-सरसों पर आधारभूत, रणनीतिक और अनुप्रयुक्त अनुसंधान संचालित करने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) द्वारा 20 अक्तूबर, 1993 को ''राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र (National Research Centre on Rapeseed-Mustard -NRCRM)'' की स्थापना की गई। 

  • ग्यारहवीं योजना (2007-12) में फरवरी 2009 को इस केन्द्र को सरसों अनुसंधान निदेशालय के रूप में उन्नयित किया गया।  अतः पूर्व में 'राष्ट्रीय सरसों अनुसन्धान केंद्र' के नाम से जाना जाता था।

बुनियादी ज्ञान और सामग्री पैदा करने के अलावा यह पारिस्थितिक रूप से सुदृढ़ और आर्थिक रूप से व्यवहार्य कृषि उत्पादन और संरक्षण प्रौद्योगिकियों को विकसित करने में संलग्न है। राई-तोरिया (रेपसीड)-सरसों के उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए इस केंद्र के पास देश भर में 23 मुख्य और उप-केंद्रों के विस्तृत नेटवर्क (11 मुख्य केंद्र, 12 उप-मुख्य केंद्र) के माध्यम से सरसों अनुसंधान कार्यक्रमों की योजना, समन्वय और निष्पादन की जिम्मेदारी भी है। इसके अलावा इसके अंतर्गत 9 सत्यापन केंद्र भी संचालित हैं।


फरवरी 2009 में मिला नया नाम 'सरसों अनुसंधान निदेशालय' -

फरवरी 2009 में, ICAR ने NRCRM को नए नाम ''सरसों अनुसंधान निदेशालय (DRMR) के रूप में नामित किया। 

DRMR अपनी अनुसंधान, सेवा और समर्थन इकाइयों के माध्यम से तोरिया (ब्राउन सरसों, पीली सरसों, तोरिया, तारामिरा, गोभी सरसों) और सरसों (काली सरसों, इथियोपियाई सरसों और भारतीय सरसों) के समूह के लिए उत्पादन प्रणाली अनुसंधान कार्य करता है। 

यह निदेशालय भरतपुर रेलवे स्टेशन से 7 किमी दूर और राजस्थान रोडवेज बस स्टेशन से 3 किमी दूर आगरा-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है। निदेशालय का परिसर 44.21 हैक्टर क्षेत्र में फैला है जिसके लगभग 80 प्रतिशत भाग में प्रयोगों को संचालित किया जाता है और शेष भाग में प्रशासनिक-सह-प्रयोगशाला भवन तथा आवासीय परिसर है। यह निदेशालय 77.27˚ पू. देशांतर, 27.12˚ उ. देशांतर अक्षांश और समुद्र तल से 178.37 मीटर ऊपर स्थित है।

दृष्टि  -

तेल और पोषण सुरक्षा के लिए सरसों विज्ञान (ब्रैसिका विज्ञान)।

मिशन- 

सरसो की उत्पादकता में संपोषणीय वृद्धि के लिए विज्ञान और संसाधनों को पोषित करना। 

जनादेश -  

  1. उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार के लिए तोरिया-सरसों पर बुनियादी, रणनीतिक और अनुकूली अनुसंधान।

  2. बेहतर किस्मों और प्रौद्योगिकियों को विकसित करने के लिए सूचना, ज्ञान और आनुवांशिक सामग्री को न्यायसंगत पहुंच प्रदान करना । 

  3. स्थान विशिष्ट किस्मों और प्रौद्योगिकियों का विकास करने हेतु अनुप्रयुक्त अनुसंधान का समन्वय। 

  4. प्रौद्योगिकी प्रसार और क्षमता निर्माण। 


    निदेशालय के प्रमुख कार्य-

    • राई-सरसों के आनुवांशिक संसाधनों और उस पर जानकारी के लिए राष्ट्रीय निक्षेपागार के रूप में कार्य।

    • तेल और बीज-आहार की उत्पादकता और गुणवत्ता में सुधार करने के लिए बुनियादी, कार्यनीतिक और अनुप्रयुक्त अनुसंधान कार्य।

    • विभिन्न परिस्थितियों के लिए पारिस्थिकीय दृष्टि से सुदृढ़ और आर्थिक दृष्टि से अर्थक्षम उत्पादन और संरक्षण प्रौद्योगिकियों का विकास।

    • बहु-स्थानिक परीक्षण और समन्वय पर आधारित स्थान-विशिष्ट अंतर्विषयक जानकारी का सृजन।

    • उपर्युक्त उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए संबंधों को स्थापित करना तथा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का संवर्धन करना।

    • तकनीकी विशेषज्ञता और परामर्श का विस्तार करना।

निदेशालय के विभिन्न कार्यक्षेत्र-

इस निदेशालय के निम्नांकित महत्वपूर्ण कार्यक्षेत्र हैं:  

  • फसल सुधार

  • फसल उत्पादन

  • फसल सुरक्षा

  • पादप जैव रसायन

  • प्लांट बायोटेक्नोलॉजी

  • तकनीक का आकलन और प्रसार

  • कृषि ज्ञान प्रबंधन


किसानों के उपयोगी 'एकीकृत कृषि-सलाहकार सेवाएं' (Integrated agro-met advisory services)-

 

2005 से इस निदेशालय में भारतीय मौसम विज्ञान विभाग, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित ''एकीकृत एग्रो-मेट एडवाइजरी सर्विसेज (IAAS)'' परियोजना चल रही है। इस परियोजना में नोएडा स्थित राष्ट्रीय मध्यम रेंज पूर्वानुमान केंद्र के सहयोग से राजस्थान के पूर्वी बाढ़ क्षेत्र (अलवर, भरतपुर, करौली, सवाई माधोपुर और धौलपुर) के लिए मध्यम श्रेणी का मौसम पूर्वानुमान जारी करने की सेवा संचालित की जा रही है, जो किसानों के अत्यंत उपयोगी है। इसके द्वारा मौसम डेटा के विश्लेषण के आधार पर रियल टाइम आधार पर आगामी 5 दिनों का मौसम पूर्वानुमान बटाया जाता है तथा उस मौसम के अनुसार किसानों के क्या लाभकारी आकस्मिक कृषि योजना होगी, इसके बारे में बताया जाता है। नियमित आधार पर इस जानकारी को किसानों, विस्तार श्रमिकों, वैज्ञानिकों, प्रशासकों, नीति निर्माताओं एवं मीडिया कर्मियों को टेलीफोन, फैक्स, ई-मेल और एसएमएस के माध्यम से भी दिया जाता है।

 

बीज पखवाड़ा का आयोजन


किसानों को सरसों की उन्नत किस्मों के बीज वितरण के लिए निदेशालय में प्रत्येक वर्ष बीज पखवाड़ा का आयोजन सितम्बर माह में किया जाता है। पखवाड़े में निदेशालय द्वारा पैदा किया गया सरसों की उन्नत किस्मों के बीज किसानों को उचित मूल्य (न लाभ न हानि) पर पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर वितरित किया जाता है। इस अवसर पर गोष्ठियों के माध्यम से किसानों को फसल के बारे में तकनीकी ज्ञान भी दिया जाता है।

सरसों की विभिन्न किस्मों के बीज एवं उनकी उत्पादकता

क्र सं

किस्म का नाम

उत्पादकता (किलो / हेक्टेयर)

1

एनआरसीडीआर 2/ NRCDR 2

19-26
2

एनआरसीएचबी 506/ NRCHB 506

15-25
3

एनआरसीएचबी 101/ NRCHB 101

13-15 (late sown condition)
4

डीआरएमआरआईजे 31/ DRMRIJ-31

22-27
5

डीआरएमआर 150-35/ DRMR 150-35

12-18
6

आरएच 749/ RH749

24-28
7

आरएच 406/ RH 406

खाद्य तेलों के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी  -

देश की खाद्य तेल की जरूरतों का अधिकांश हिस्सा आयात से पूरा हो पा रहा है। इस कारण खाद्य तेलों के क्षेत्र में देश को आत्म निर्भर बनाने के लिए केन्द्र सरकार ने भरतपुर स्थित सरसों अनुसंधान निदेशालय को एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौपी है। निदेशालय ने पहली बार उसके यहां विकसित विभिन्न किस्मों के बीजों को सीधे किसानों तक पहुंचाया है। इसका उद्देश्य देश में सरसों का उत्पादन बढ़ाना तथा उत्पादन का लक्ष्य 12 से 35 क्विंटल प्रति हैक्टेयर करना है। राई-सरसों के राष्ट्रीय प्रसार कार्यक्रम के रूप में इस निदेशालय द्वारा की गयी इस बड़ी पहल से अनुसन्धान का लाभ हर किसान तक पहुंच सकेगा।

इस हेतु निदेशालय द्वारा अपनी स्थापना के बाद पहली बार वर्ष 2016-2017 में एक राष्ट्रव्यापी योजना तैयार की थी। योजना के अंतर्गत देश के विभिन्न राज्यों में करीब 1800 प्रथम पंक्ति प्रदर्शन विभिन्न राज्यों के कृषि विश्वविद्यालयों के सहयोग से किसानों के खेतों पर लगाने का लक्ष्य था। देशभर में कार्यरत करीब 200 कृषि विज्ञान केन्द्रों से जुड़े किसानों के यहां भी प्रथम पंक्ति प्रदर्शनों लगाने का निर्णय किया गया।

इसमें राजस्थान के अलावा बिहार, पश्चिम बंगाल, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, झारखण्ड, असम, महाराष्ट्र, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों पर भी फोकस किया गया ।


ICAR - Directorate of Rapeseed-Mustard Research (ICAR-DRMR)

 

The Indian Council of Agricultural Research (ICAR) established the National Research Centre on Rapeseed-Mustard (NRCRM) on October 20, 1993, to carry out basic, strategic and applied research on rapeseed-mustard. Besides, generating basic knowledge and material, it also engages in developing ecologically sound and economically viable agro production and protection technologies. The Centre has also the responsibility to plan, coordinate and execute the research programmes through wide network of 22 main and sub-centres across the country, to augment the production and productivity of rapeseed-mustard.


In February 2009, the ICAR re-designated NRCRM as the Directorate of Rapeseed Mustard Research (DRMR). The DRMR functions as a fulcrum to support the production system research for rapeseed (Brown sarson, yellow sarson, toria, taramira, gobhi sarson) and mustard (black mustard, Ethiopian mustard and Indian mustard) group of crops through research, service and support units. The Directorate is located on Agra-Jaipur national highway and is 7 km far from Bharatpur railway station and 3 km from Rajasthan Roadways bus station.

Vision-


Brassica Science for oil and nutritional security.

Mission-


Harnessing science and resources for sustainable increase in productivity .

Mandates-


Basic, strategic and adaptive research on rapeseed-mustard to improve the productivity and quality.

Provide equitable access to information, knowledge and genetic material to develop improved varieties and technologies.

Coordination of applied research develop location specific varieties and technologies

Technology dissemination and capacity building


The ICAR-Directorate of Rapeseed-Mustard Research is playing a key role in advancing rapeseed-mustard research in frontier areas through multidisciplinary approach. The most significant fields of work of this directorate include:

  • Crop Improvement 
  • Crop Production

  • Crop Protection

  • Plant Biochemistry

  • Plant Biotechnology Technology Assessment and Dissemination

  • Agriculture Knowledge Management

 

Integrated agro-met advisory services-

 

Indian Meteorology Department, Ministry of Earth Sciences, New Delhi sponsored Integrated Agro-met Advisory Services (IAAS) Project that has been running at this Directorate since 2005. IAAS Unit is releasing medium range weather forecast for eastern flood plain zone of Rajasthan (Alwar, Bharatpur, Karauli, Swai Madhopur and Dholpur) in collaboration with National Centre for medium Range Forecasting, Noida. The advisory on real time basis based on analysis of weather data includes forecast for next 5 day and contingency crop/farm planning. The information is also communicated through Telephone, FAX, e-mail and SMS to farmers, extension workers, scientists,administrators, policy makers and media personnel on regular basis.



DRMR is producing the TFL Seed for farmers under "Mega seed project on seed production". The rapeseed-Mustard seed have been sold in Beej pakhwara organized by DRMR during month of September every year. The seed is available for sale during crop season on the basis of first cum first serve . The seed produced for the crops are:
 
Rapeseed-Mustard Varieties
Sr. N.Variety NameProductivity (Kg/ha)
1एनआरसीडीआर 2/ NRCDR 219-26
2एनआरसीएचबी 506/ NRCHB 50615-25
3एनआरसीएचबी 101/ NRCHB 10113-15 (late sown condition)
4डीआरएमआरआईजे 31/ DRMRIJ-3122-27
5डीआरएमआर 150-35/ DRMR 150-3512-18
6आरएच 749/ RH74924-28
7आरएच 406/ RH 406

Rapeseed-Mustard Varieties


Under the umbrella of AICRP- RM till 2018, a total of 248 varieties of rapeseed-mustard have been released, out of them 185 varieties notified comprises (Indian mustard-113; toria-25; yellow sarson-17; gobhi sarson-11; brown sarson-5; karan rai-5; taramira-8 and black mustard-1). These include six hybrids and varieties having tolerance to biotic (white rust, Alternaria blight, powdery mildew) & abiotic stresses (salinity, high temperature) and quality traits have been recommended for specific growing conditions.

Rapeseed-Mustard Varieties developed by ICAR-DRMR


The first CMS based hybrid (NRCHB 506) and 05 varieties of Indian mustard (NRCDR 02, NRCDR 601, NRCHB 101, DRMRIJ 31 & DRMR150-35) and one variety of yellow sarson (NRCYS 05-02) have been developed by DRMR. 


6 टिप्पणियाँ:

  1. सम्पूर्णता लिए हुए अत्यंत ज्ञानवर्धक जानकारी (h).......

    ReplyDelete
  2. Very nice information for aspirants for administrative services such as RAS & other exams.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर जानकारी उपलब्ध कराई गई है। धन्यवाद

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.