3/10/2019 02:11:00 pm
2
GARASIA DANCE
KUMBH OF TRIBALS OF RAJASTHAN

अपनी लोक संस्कृति एवं परम्पराओं के लिए सुविख्यात राजस्थान के दक्षिण में स्थित जनजाति बहुल जिला डूंगरपुर अब जनजाति महाकुंभ कहे जाने वाले बेणेश्वर मेले से भी विश्व पर्यटन मानचित्र पर पहचान बनाने लगा है। साबला के निकट डूंगरपुर एवं बांसवाड़ा जिले की सीमा रेखा पर अवस्थित वागड प्रयाग के नाम से सुविख्यात आस्था, तप एवं श्रद्धा के प्रतीक बेणेश्वर धाम पर प्रतिवर्ष बांसती बयार के बीच आध्यात्मिक एवं लोक संस्कृति का अनूठा संगम देखने को मिलता है। सोम-माही-जाखम के मुहाने पर अवस्थित ‘बेणेका टापू’ लोक संत मावजी महाराज की तपोस्थली है। श्रद्धा व संस्कृति के इस संगम मेले में राजस्थान के साथ ही पूरे देशभर व पड़ौसी राज्यों गुजरात, मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र से भी लाखों श्रद्धालु पहुंचते है। वैसे तो यह मेला ध्वजा चढ़ने के साथ ही प्रारंभ हो जाता है परंतु ग्यारस से माघ पूर्णिमा तक लगने वाले मुख्य मेले में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बहुत अधिक होती है। मेले में तीन दिन तक जिला प्रशासन, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग एवं पर्यटन विभाग के द्वारा संयुक्त तत्वाधान में विभिन्न सांस्कृतिक एवं खेलकूद कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस वर्ष भी 17 से 19 फरवरी तक संस्कृति के विविध आयामों का दिग्दर्शन कराने वाला वागड़ का प्रसिद्ध जनजाति महाकुंभ बेणेश्वर मेला बहुरंगी जनजाति संस्कृतियों के संगम स्थल का साक्षी बना। 

बहुरंगी जनजाति संस्कृति की दिखती है झलक-

अपनी आदिम संस्कृति की विशिष्टताओं के लिए सुविख्यात वागड़ प्रयाग के इस विश्व विख्यात जनजाति महाकुंभ मेले में पारम्पारिक परिधानों में सजे और अलहड़ मस्ती में झूमते-गाते जनजाति वांशिदे लोक तरानों से फ़िजा को लोक सांस्कृतिक उल्लास के रंगो से रंग देते हैं। कई वर्ग किलोमीटर फैले संगम तटों पर विभिन्न क्षेत्रों से उमडने वाले जनसैलाब की निरन्तरता में बहुरंगी जनजाति संस्कृति की सहज झलक दिखाई देती है। 

अल सुबह से ही शुरू होता है अस्थि-विसर्जन का दौर-

लोकानुरंजन के साथ ही परम्पराओं एवं धार्मिक रीति रिवाजों के लिए माघ पूर्णिमा के पवित्र अवसरर सर्द अल सुबह के हल्के कोहरे और धुंध के बीच हजारों-हजार मेलार्थियों द्वारा अपने दिवंगत परिजनों के मोक्ष कामनार्थ आबूदर्रा स्थित संगम तीर्थ पर विधि-विधान के साथ त्रिपिण्डीय श्राद्ध आदि उत्तर क्रियाएँ पारंपरिक एवं धार्मिक अनुष्ठानों के साथ करते हुए जलांजलि दी जाती है। 

भोर से शुरू होने वाले अस्थि विसर्जन का यह क्रम दोपहर बाद तक चरमोत्कर्ष पर रहता है और कई हजार श्रद्धालु अपने पूर्वजों की मोक्ष कामना सेे उत्तरक्रियाऍं पूरी कर उऋण होने का एहसास करते हैं। विसर्जन के लिए संगम तटों व जलीय क्षेत्रों में जनगंगा निरन्तर उमडती रहती है। मेलार्थियों द्वारा नदी के घाटों, संगम तटों तथा शिलाखण्डीय टापूूओं पर कण्डे जलाकर देसी भोजन बाटी-चूरमा का भोग लगाकर परिजनों के साथ सामूहिक भोज का आंनद लेते है। संगम तटों पर भोर में जहां कोहरा बादलों की तरह छाया रहता है वहीं लकड़ियों एवं सरकण्डों के जलने से धुुएँ के बादल भी दिनभर उठते रहते हैं। 

आस्था के साथ होता है आनंद- 

बेणेश्वर धाम के मुख्य मन्दिर राधा-कृष्ण देवालय पर संत मावजी महाराज की जयन्ती माघशुक्ल ग्यारस को महन्त अच्युतानंद द्वारा सप्तरंगी ध्वज चढाने से शुरू होने वाला यह मेला दिन प्रतिदिन उभार पर रहता है। दूर-दूर तक जहां-जहां दृष्टि जाये वहीं अपार जनगंगा प्रवाहमान रहती है। दूर-दूर से आए भक्त, साद सम्प्रदाय के भगत, साधु-संत, महंत के साथ ही पर्यटक मन्दिर परिसरों तथा संगम तटों पर यत्र-तत्र डेरा डाले धार्मिक एवं आध्यात्मिक आनन्द में गोते लगाते रहते है। 

मेलार्थियों व श्रद्धालु परिजनों के साथ सामूहिक स्नान एवं भोज के बाद बेणेश्वर शिवालय, राधा-कृष्ण मन्दिर, वाल्मीकि मन्दिर, ब्रह्मा मन्दिर, हनुमान मंदिर आदि देवालयों में जाकर देव-दर्शन, पूजा-अर्चना आदि धार्मिक क्रियाकलापों को सम्पन्न करते हैं। मेला बाजार में वागड़ अंचल के लघु उद्योगों एवं कुटीर उद्योगों की जीवन्त झांकी दिखाई देती है। मेला स्थल पर स्थानीय पारम्पारिक एवं कलात्मक वस्तुओं के साथ ही अन्य सामान की लगी दुकानों पर जमकर खरीददारी कर मेले का लुत्फ उठाया जा सकता है। साथ ही मेलार्थी रंगझूलों में बैठकर हवा में तैरने का आनन्द भी लेते हैं।

पालकी यात्रा व महंत के शाही स्नान में उमडता है श्रद्धा का ज्वार-   

मेले का मुख्य आकर्षण, निष्कलंक भगवान एवं महन्त की पालकी यात्रा एवं संगम पर महंत का शाही स्नान रहता है। मावजी महाराज की जन्मस्थली साबला के हरि मन्दिर से सवेरे गाजे-बाजे और ढोल-नगाडों के साथ निष्कलंक भगवान एवं महंत अच्युतानंद की पालकी यात्राएं निकलती है। सैकडों धर्मध्वजाओं, भजन-कीर्तन, गाजे-बाजे एवं रास लीला के मनोहारी दृश्यों से भरपूर इस पालकी यात्रा में भक्तगण कहार बनते हैं। रास्ते भर पालकी यात्रा का ग्रामीणों द्वारा जगह-जगह भावभीना स्वागत किया जाता है। इस दौरान समूचा मेला स्थल संत मावजी की जय-जयकार से गूंज उठता है। पालकियां राधा कृष्ण मंदिर पहुंचती है जहां महंत देव दर्शन करते हैं। इसके बाद पुनः हजारों भक्त पालकियों को लेकर जलसंगम तीर्थ ‘आबूदर्रा’ की ओर बढ़ते हैं जहां महन्त जल तीर्थों का आवाह्न करते हैं और मावजी महाराज सहित बेणेश्वर के आद्य महन्तों का स्मरण करते हुए पारंपरिक अनुष्ठानों के साथ स्नान किया जाता है। 

परम्परागत आयोजनों की रहती है धूम-
RAJASTHAN GAIR DANCE


बहुप्रसिद्ध एवं वागड़ क्षेत्र की पहचान बन चुके लोक नृत्य ‘गैर’ इस मेले का प्रमुख आकर्षण बन चुका है। मुख्य मेले के दिन होने वाली ‘गैर’ प्रतियोगिताओं में रंगबिरंगे पारम्पारिक परिधानों व आभूषणों में सजे ‘गेरिये’ के लोक वाद्य यंत्रों कुण्डी, ढ़ोल, नगाड़ों की थापों पर थिरकते कदमों से समूचा मेला फाल्गुनी रंगों में रंग जाता है। गैर नृत्य एवं खेल प्रतियोगिताओं में उमड़ने वाली अथाह जनमेदीनी जहां प्रतिभागियों की हौंसलाफजाई करती है वहीं अपने दल के सदस्यों के जीतने पर खुशियां भी मनाई जाती है।


सांस्कृतिक संध्या में दिखता है संस्कृति का उल्लास-



पवित्र तीर्थ स्थल पर पूर्णिमा की धवल चांदनी में जलसंगम में बिखरती रश्मियों के बीच स्थानीय लोक कलाकारों एवं देश के विभिन्न हिस्सों से आये कलाकारों द्वारा तीन दिन तक सांस्कृतिक संध्या में एक से बढ़कर एक शानदार प्रस्तुतियों दी जाती है । इन प्रस्तुतियों में देश की विविध संस्कृतियों की छटा सहज ही दृष्टव्य होती है। जिला प्रशासन, जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग एवं पर्यटन विभाग के संयुक्त तत्वाधान में बेणेश्वर धाम पर बने मुक्ताकाशी रंगमंच पर तीन दिवसीय रात्रि कालीन सांस्कृतिक संध्या के तहत देश के विभिन्न भागों से आए राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के ख्यातनाम लोक कलाकारों द्वारा दी गई मनोहारी प्रस्तुतियों से हर शाम एक यादगार शाम बन जाती है ।

भजनों से फ़िजा में घुलती है आध्यात्मिक स्वर लहरियां-

मेले में लोक संत मावजी महाराज के भक्तों एवं संतो द्वारा स्थानीय वागड़ी बोली में गाये जाने वाले भजनों से न केवल वातावरण भक्ति से सरोबार हो जाता है वरन् फ़िजा में घुली ये स्वर लहरियां मेले को आध्यात्मिक ऊंचाईयां प्रदान करती है। 

लुप्त होते स्थानीय खेलों का होता है जीवंत प्रदर्शन -

कम्प्यूटर के इस युग में मैदान में खेले जाने वाले स्थानीय खेल सितौलिया, रस्साकसीं, गिडा डोट, कुर्सी रेस, मटका दौड आदि का आयोजन इस मेले को स्थानीयता से जोड़ता है। लगभग भूला दिये गये इन खेलों के जीवंत एवं रोमांचकारी प्रदर्शन में पुरूषों के साथ-साथ महिलाओं द्वारा भी जबर्दस्त उत्साह से भाग लिया जाता है । साथ ही भावी पीढ़ी भी इन विस्मृत प्रायः हो चुके खेलों से रूबरू होती है।

जनजाति संस्कृति के बहुआयामी रंगों का एक ही स्थान पर दिग्दर्शन कराने वाला यह मेला विश्व में अपने आप में एक अनूठा मेला है। अपने वैशिष्ट्य परम्पराओं व जीवन संस्कृति को निकटता से अनुभूत कराने वाला बेणेश्वर मेला आस्था व संस्कृति का अद्भुत संगम है। 

स्रोत- http://www.dipr.rajasthan.gov.in/

2 टिप्पणियाँ:

  1. Excellent post! Baneshwar Fair Dungarpur 2020 looks like the perfect event for a family getaway. I heard that it is also called The Maha Kumbh Of Tribals. I hope that my family will love this vacation & we can make some great memories for life.

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.