12/14/2018 08:06:00 pm
2
Baba Ramdev is a folk deity of Rajasthan. His birth anniversary is celebrated as Baba Ramdev Jayanti. It is the second day of Shukla Paksha of Bhadrapada month.




King Ajmal (Ajaishinh) married Queen Minaldevi, the daughter of Pamji Bhati of Chhahan Baru village. For several years, the couple remained childless. The king went to Dwaraka and pleaded with Krishna about his wish to have child like him. They had two sons, Viramdev and the younger Ramdev. Ramdev was born on Bhadarva Shukla dooj in V.S. 1409 at Ramderiya Undu in Kashmir in Barmer district.

Baba Ramdev was a very hardworking king who dedicated his life to the people of his kingdom. He took up many welfare measures for his people. He strived hard for the upliftment of the poor and downtrodden people. He preached about equality. Though he was a reviver of Hinduism, he treated people of all religions equally. He took Samadhi at the age of 33 on Bhadrapada Shukla Ekadashi.

Ramdevra lies on route of the Jodhpur to Jaisalmer route at about 120 km short of Jaisalmer near Pokhran. Ramdevra is home to the temple of Baba Ramdev Ji. Devotees from all over world visit the temple all round the year. Ramdevra Fair is held here in the months of August and February and is attended by devotees in large numbers from all over India. This place is situated in Jaisalmer, Rajasthan, India; its geographical coordinates are 27° 1' 0" North, 71° 55' 0" East and its original name (with diacritics) is Ramdevra.
The Ramdevra temple can be reached via nearest railway station of Ramdevra station, NH 1 is the closest Highway which runs from the North West from Temple and from the Northern Part of city.

Distance from nearby places- 

Pokhran (22 Km), Khimsar (180 Km), Jodhpur (190 Km), Jaisalmer (118 Km), Phalodi (50 Km), Chandan (76 Km), Sodakore (80 Km)

HISTORICAL SIGNIFICANCE

Baba Ramdev Ji, a Tanwar Rajput and a saint took Samadhi in 1459 AD, at the age of 33 years in this village. He was a Rajasthani king who ruled over Pokhran in the 14th Centary. He was considered to be the incarnation of Lord Krishna. Hindus, Muslims, Jains and Sikhs are his followers. The village is named after the Baba/Saint. A temple was built around the Samadhi by King Ganga Singh of Bikaner in 1931 A.D.

Baba Ramdev was known to have some magical, gifted powers that spread his fame, far and wide. Slowly and gradually, he became very popular for his powers and gifted traits. Because of this five saints reached from Mecca to test and verify his powers and to testify if all that was proclaimed about him were true. After all the possible examination when they were convinced, they indeed paid homage to him. There is also a well in the same area that is supposed to have been built by Baba Ramdev himself. The local villagers consider the water of this well to be sacred and holy.

CULTURAL SIGNIFICANCE

Baba Ramdev Ji is a folk-deity of Rajasthan in India. He was a saint of the 14th C, who devoted his life to the upliftment of the downtrodden. While Hindus regard him as an incarnation of Lord Krishna, Muslims venerate him as Ramshah Pir or Rama Shah Peer. He is said to have had miraculous powers, and his fame reached far and wide. Legend foretells that five Pirs from Mecca came to test Ramdev's powers. Ramdev after initial welcoming requested them to have lunch with him. But Pirs insisted that they eat in their personal utensils, lying in Mecca, hence they could have their meals. On this Ramdev smiled and said, ‘Look your utensils are coming’, and they saw that their eating bowls coming flying in air from Mecca. After being convinced of his abilities and powers, they paid their homage to him and named him Rama Shah Peer. The five Pirs, who came to test his powers, were so overwhelmed by his powers that they decided to stay with him and today the Samadhis of these five are also near the Samadhi of Ramdev.

In Rajasthan, Ramdev is the chief deity of the Meghwal community, worshiped during the Vedwa Punam (August - September). The community's religious leader, Gokuldas, claims that Ramdev was himself a Meghwal, in his 1982 book Meghwal Itehas, which constructs a history of the Meghwal community. However, this is a claim accepted only by the Meghwal community themselves. Other sources, folktales and the Hindu community generally believe Ramdev to have been born in the Tanwar Rajput community.

Ramdev believed in the equality of all human beings, high or low, rich or poor. He helped the downtrodden by granting them their wishes. He is often depicted on horseback. His worship crosses the Hindu-Muslim divide as well as the distinctions of caste. His followers are spread across cutting across caste-barriers in Rajasthan, Haryana, Punjab, Gujarat and Madhya Pradesh, Mumbai, Delhi and also in Sindh in Pakistan. Several Rajasthani fairs are held to commemorate him. Temples in his name are found in many states of India.

ARCHITECTURAL SIGNIFICANCE AND FEATURES

The Samadhi of Ramdevra has a single approach road from the North that leads to the main entrance from the Northern most gate KARNI DWAR situated in the middle of the market area. The main Samadhi door is hustled with kiosks on both sides of the road; this main road is entirely covered with steel truss and GI sheets to provide pleasant walking area from Karni Dwar to the Samadhi entrance.



Around 8,000 people can stand at a time in the courtyard and the walking time from the main entrance to the Samadhi is reduced to one and a half hours as compared to 6-7 hours earlier. The south of the courtyard contains graves of the grand sons of Ramdev Baba, covered with Chhatri made up of marble on a 5 ft. high platform made up of marble.

The main building block of the Samadhi has five entrances and exit gates and the entire Samadhi premises is full of several worship places such as "DIVYAJYOTI","COURT", "HOLY WATER" and "STEPWELL NAMED PARCHA BAWARI”. The Southern part of the Samadhi outside the Samadhi premises has a beautiful public area with a view of The Ramsarovar.
This buffer space provides a better circulation around the Samadhi premises and is used as an important recreational space where local artists (Banjaaras) entertain people.

The old Samadhi building is made up of stone which is a very simple rectangular block of ideal geometry with the primary focus on circulation. There is no such kind of aesthetic architectural elements of Rajasthan architecture present in the Samadhi building except ornamented arches and the stone piers. 



To the South of the Samadhi, there exists the Ram Sarovar (Holy Bath) which is a part of the rituals. This pond is surrounded by steps made up of stone. The land on Eastern part of the pond contains graveyards; the part of the land is entirely open and void of any structure.

Material of Construction: Makrana Stone, Lime

Samadhi has been built of Makrana marble and lime mortar. A water tank is located near the Temple which is believed to cure skin diseases. The Temple also has Samadhi of King Ajmalji and Rani Mata Minaldevi Ji, of Raja Ranjit Singh Ji (the grandfather of Baba Ramdev Ji), of Viramdev Ji (the elder brother of Baba Ramdev Ji) and of the two sons of Baba Ramdev Ji.

HERITAGE STRUCTURES 

 

Parcha Bawri-


Parcha Bawri was used as a storage tank during the time of Raja Ramdevra. He constructed this structure to resolve the problem of potable water. In Parcha Bawri, the text is embedded in walls in Prakrit language. It is one of the most ancient languages of India. The monument does not come under Archaeological department, but is of great importance for the pilgrims arriving at Ramdevra village. As a part of ritual activity people used to tie bangles on the bawri and a yagya wasconducted in it. Due to lack of ventilation it became very difficult to breath inside the bawri during the ceremony. Also the ceremonies are damaging the walls.


ACTIVITY CALENDAR

The Ramdevra Fair is held here during August – September, which attracts a large number of devotees. Many bhajans and kirtans/devotional songs are sung night long by devotees to pay homage to the Baba. People from all religions and castes; gather to attend this annual fair in large numbers. They consider this time to be ideal to offer prayers and worship their deity Baba Ramdev.
Throughout the fair, people sing and dance in happiness and devotion. They offer prayers in the temple of Baba Ramdev, situated near the Samadhi of Baba Ramdev. Devotees offer rice, coconuts, churma, and wooden horses to Ramdev Ji.



Ramdev Ji Temple fair and festival is celebrated in Bhadrapada month. This festival ends at the Dasham of the month. Thousands of people participate in the annual festival celebrated here. People from villages and towns in Rajasthan and Northern Gujarat arrive in the temple to make their offerings on the day of the waxing phase of moon in Bhadrapada month as per The Hindu Lunar calendar followed in Rajasthan.

According to the Samadhi Samiti, 50 lakhs people arrive at Ramdevra during the months of Sawan and Bhadrapada. On a daily basis, estimated number of pilgrims who are visiting the village is about 5,000-10,000. People have a great faith in the temple. Atmosphere is charged with faith and devotion. All the year around devotees and visitors come to the temple to offer their homage and prayers to seek fulfilment of their wishes.

List of Important Festivals

1. Bhadrapada festival
2. Sawan festival


राजस्थान के बाबा रामदेव जी और राम देवरा 


बाबा रामदेव राजस्थान के एक लोक देवता हैं। उनकी जयंती बाबा रामदेव जयंती के रूप में मनाई जाती है। यह भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को आती है। राजा अजमल (अजय सिंह) ने छहान बारू गांव के पेमजी भाटी की पुत्री रानी मिनल देवी से शादी की। कई सालों तक यह युगल निःसंतान ही रहा। राजा द्वारका गए और वहाँ भगवान कृष्ण से उनके जैसे पुत्र के पैदा होने की इच्छा के बारे में प्रार्थना की। उनके दो पुत्र थे, विरमदेव बड़े और रामदेव छोटे थे। रामदेव का जन्म बाड़मेर जिले में कश्मीर में रामदेरिया ऊँडू में विक्रम संवत 1409 में भादवा शुक्ल दूज को हुआ था।
बाबा रामदेव एक बहुत परिश्रमी राजा थे, जिन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन अपने राज्य की प्रजा को समर्पित किया था। उन्होंने अपने लोगों के लिए कई कल्याणकारी उपाय किए। उन्होंने गरीब और दलित लोगों के उत्थान के लिए कठिन संघर्ष किया। उन्होंने सभी समानता के बारे में उपदेश दिया। हालांकि वे हिंदू धर्म का पुनरुद्धारक थे, किन्तु उन्होंने सभी धर्मों के लोगों के साथ समानता का व्यवहार किया। उन्होंने भाद्रपद शुक्ला एकादशी पर 33 वर्ष की आयु में समाधि ली।
रामदेवरा जोधपुर-जैसलमेर मार्ग पर जैसलमेर से लगभग 120 किमी दूरी पर पोखरण के पास स्थित है। रामदेवरा में बाबा रामदेव जी का मंदिर है। वर्ष भर पूरे विश्व से भक्त इस मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। यहाँ लगने वाला रामदेवरा मेला प्रतिवर्ष अगस्त और फरवरी महीनें में आयोजित किया जाता है तथा इसमें सम्पूर्ण भारत से बड़ी संख्या में रामदेवजी के भक्त भाग लेते हैं। यह स्थान भारत के जैसलमेर, राजस्थान में स्थित है; इसके भौगोलिक निर्देशांक 27 डिग्री 1 ' 0 " उत्तर, 71 डिग्री 55' 0" पूर्व हैं और इसका मूल नाम (डायक्रिटिक्स के साथ) रामदेवरा है। रामदेवरा मंदिर में नजदीकी रेलवे स्टेशन रामदेवरा के माध्यम से पहुंचा जा सकता है, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या - 1 इसका निकटतम राजमार्ग है जो मंदिर से उत्तर पश्चिम में तथा रामदेवरा शहर के उत्तरी भाग में है।

आस-पास के स्थानों से दूरी-


पोखरण (22 किमी), खींवसर (180 किमी), जोधपुर (190 किमी), जैसलमेर (118 किमी), फलौदी (50 किमी), चान्दन (76 किमी)


ऐतिहासिक महत्व-


एक तंवर राजपूत और एक संत बाबा रामदेव जी,  ने 1459 ईस्वी में इस गांव में 33 वर्ष की आयु में समाधि ली थी। वे ऐसे राजस्थानी राजा थे जिन्होंने 14 वीं शताब्दी में पोखरण पर शासन किया था। उन्हें भगवान श्रीकृष्ण का अवतार माना जाता था। हिंदू, मुस्लिम, जैन और सिख उनके अनुयायी हैं। गांव का नाम बाबा / संत के नाम पर रखा गया है। सन 1931 में बीकानेर के राजा गंगा सिंह द्वारा समाधि के चारों ओर एक मंदिर बनाया गया था।

बाबा रामदेव को कुछ अलौकिक, प्रतिभाशाली शक्तियों के लिए जाना जाता था, जिसने उनकी प्रसिद्धि को दूर तक और व्यापक रूप से फैला दिया था। धीरे-धीरे, वह अपनी शक्तियों और प्रतिभाशाली गुणों के लिए बहुत लोकप्रिय हो गए। इस कारण मक्का से पांच संत उनकी शक्तियों का परीक्षण और सत्यापन करने और यह साक्ष्य देने के लिए के लिए पहुंचे कि उनके बारे में जो कुछ भी घोषित किया गया था, क्या वह वास्तव में सच था। सभी संभावित परीक्षाओं के बाद जब उन्हें विश्वास हो गया, तो उन्होंने वास्तव में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस क्षेत्र में एक कुआं भी है जिसे माना जाता है कि बाबा रामदेव ने स्वयं बनाया था। स्थानीय ग्रामीण इस कुएं के जल को पवित्र और दैवीय मानते हैं।



सांस्कृतिक महत्व-


बाबा रामदेव जी भारत के राजस्थान राज्य के एक लोक देवता हैं। वह 14 वीं सदी के एक ऐसे संत थे, जिन्होंने अपना जीवन दलित और निराश लोगों के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया था। हिंदू उन्हें भगवान कृष्ण के अवतार के रूप में मानते हैं, जबकि मुस्लिम उन्हें रामसा पीर या राम शाह पीर के रूप में पूजते हैं। कहा जाता है कि उनमें चमत्कारी शक्तियां थीं, और इससे उनकी प्रसिद्धि दूर-दूर तक पहुंच गई थी। किंवदंती  है कि मक्का से पांच पीर रामदेव की शक्तियों का परीक्षण करने आए थे। प्रारंभिक स्वागत के बाद रामदेव ने उनसे दोपहर का भोजन करने का अनुरोध किया। लेकिन पीरों ने जोर देकर कहा कि वे मक्का में लेटते हुए अपने निजी बर्तनों में खाते हैं, इसलिए वे अपना भोजन ले सकते हैं। इस पर रामदेव मुस्कुराए और कहा, 'देखो, आपके बर्तन आ रहे हैं', और पीरों ने देखा कि मक्का से उनके खाने के कटोरे हवा में उड़ कर आ रहे हैं। उनकी क्षमताओं और शक्तियों से आश्वस्त होने के बाद, पीरों ने उनमें श्रद्धा व्यक्त की और उन्हें राम शाह पीर नाम दिया। उनकी शक्तियों का परीक्षण करने के लिए आए पाँचों पीर उनकी शक्तियों से इतने अभिभूत हुए थे कि उन्होंने उनके साथ ही रहने का फैसला किया और आज इन पांचों पीरों की समाधियाँ भी रामदेव की समाधि के पास स्थित हैं।


राजस्थान में, रामदेव मेघवाल समुदाय के मुख्य देवता हैं, जो वेदवा पूनम (अगस्त-सितंबर) के दौरान इनके द्वारा पूजे जाते थे। मेघवाल समुदाय के एक धार्मिक नेता, गोकुलदास ने मेघवाल समुदाय का इतिहास बताने वाली अपनी 1982 में लिखी ''मेघवाल इतिहास'' नामक पुस्तक  में दावा करते हैं कि रामदेव स्वयं एक मेघवाल थे। हालांकि, यह केवल मेघवाल समुदाय द्वारा ही स्वीकार किया गया एक दावा है। अन्य स्रोतों, लोककथाओं और हिंदू समुदाय का आम तौर पर मानना है कि रामदेवजी तंवर राजपूत समुदाय में पैदा हुए थे।

रामदेवजी को अक्सर एक घुड़सवार देवता के रूप में चित्रित किया जाता है। बाबा रामदेवजी, उच्च या निम्न, अमीर या गरीब, सभी मनुष्यों की समानता में विश्वास करते थे। उन्होंने उनकी मनचाही मुराद पूरी कर उन निराश लोगों की मदद की थी। उनकी पूजा हिंदू-मुस्लिम भेदभाव  के साथ-साथ जातिगत के अंतर को भी पार कर जाती है। जाति-बाधाओं से परे उनके भक्त राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, गुजरात, मध्य प्रदेश, मुंबई, दिल्ली और पाकिस्तान के सिंध में भी विद्यमान हैं। कई राजस्थानी मेले उनकी मनौती व आराधना के लिए आयोजित किए जाते हैं। उनके नाम पर भारत के कई राज्यों में मंदिर पाए जाते हैं।


वास्तु महत्व और सुविधाएं-


रामदेवरा की समाधि से उत्तर में एकमात्र पहुँच सड़क है जो उत्तरी क्षेत्र में बाजार के मध्य स्थित मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार ''करणी द्वार'' की ओर जाती है। ''मुख्य समाधि द्वार'' सड़क के दोनों किनारों पर कियोस्कों से घिरा हुआ है। मुख्य सड़क पूरी तरह से स्टील ट्रस और जीआई चादरों से ढकी हुई है ताकि करणी द्वार से समाधि प्रवेश द्वार तक चलने का सुखद क्षेत्र प्रदान किया जा सके।


मंदिर के आंगन में लगभग 8,000 लोग एक साथ खड़े हो सकते हैं। मुख्य प्रवेश द्वार से समाधि तक चलने का समय पहले के 6-7 घंटे की तुलना में ढाई घंटे तक कम हो गया है। आंगन के दक्षिण में रामदेव बाबा के पोतों की समाधियाँ हैं, जो 5 फीट ऊंचे चबूतरे पर संगमरमर की छत्री से ढकी हुई हैं।

समाधि के मुख्य भवन ब्लॉक में पाँच प्रवेश द्वार और निकास द्वार हैं तथा पूरा समाधि परिसर कई पूजा स्थानों से भरा है, जैसे- "दिव्य ज्योति", "पवित्र जल" और "परचा बावड़ी नामक कुआं"। समाधि परिसर के बाहर समाधि के दक्षिणी भाग में रामसरोवर के सुन्दर दृश्य के साथ एक सार्वजनिक क्षेत्र स्थित है। यह बफर स्थान समाधि परिसर के आसपास में एक बेहतर परिसंचरण प्रदान करता है तथा यह एक महत्वपूर्ण मनोरंजन स्थल भी है, जहाँ स्थानीय कलाकारों (बंजारों) द्वारा लोगों का मनोरंजन किया जाता है।

पुराना समाधि भवन पत्थर से बना है, जो प्राथमिक रूप से केवल आवागमन को ध्यान में रखते हुए आदर्श ज्यामिति का एक बहुत ही सरल आयताकार ब्लॉक है। समाधि भवन में सजावटी मेहराब और पत्थर के पिलर्स को छोड़कर राजस्थान की सौंदर्य वास्तुकला के अन्य तत्वों का कोई प्रकार विद्यमान नहीं है।

समाधि के दक्षिण में, राम सरोवर नामक पवित्र स्नान स्थल विद्यमान है, जिसमे स्नान करना धार्मिक अनुष्ठान का हिस्सा है। यह तालाब पत्थर से बनी सीढ़ियों से घिरा हुआ है। तालाब के पूर्वी हिस्से की भूमि कब्रिस्तान है; भूमि का हिस्सा पूरी तरह से खुला है और किसी भी प्रकार की निर्माण संरचना से रहित है।


निर्माण सामग्री:


समाधि मकराना संगमरमर और चूने के मोर्टार के बनाई गई है। मंदिर के पास एक जलाशय स्थित है जिसके पानी से त्वचा रोगों का इलाज होने की मान्यता है। मंदिर में राजा अजमल जी और रानी माता मिनलदेवी जी, राजा रंजीत सिंह जी (बाबा रामदेव जी के दादा), बाबा रामदेव जी के बड़े भाई वीरमदेव जी तथा बाबा रामदेव जी के दो पुत्रों की समाधियाँ भी बनी हुई है।



विरासत संरचनाएं


परचा बावड़ी-

राजा रामदेव के काल में परचा बावड़ी का एक जल भंडारण टैंक के रूप में इस्तेमाल किया गया था। उन्होंने पीने के पानी की समस्या को हल करने के लिए इस संरचना का निर्माण किया था। परचा बावड़ी की दीवारों में प्राकृत भाषा में एक लेख अंकित है। प्राकृत भाषा भारत की सबसे प्राचीन भाषाओं में से एक है। यह स्मारक पुरातात्विक विभाग के अंतर्गत नहीं आता है, लेकिन रामदेवरा गांव में आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है। अनुष्ठान गतिविधि के एक अंग के रूप में लोग परचा बावड़ी पर चूड़ियाँ बांधते थे तथा इसमें एक यज्ञ आयोजित किया जाता था। वेंटिलेशन की कमी के कारण धार्मिक समारोह के दौरान बावडी के अंदर सांस लेने में बहुत मुश्किल हो जाती है। इसके अलावा ये समारोह बावड़ी की दीवारों को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं।


गतिविधि कैलेंडर


रामदेवरा मेला अगस्त-सितंबर के दौरान आयोजित किया जाता है, जो बड़ी संख्या में भक्तों को आकर्षित करता है। भक्तों द्वारा द्वारा बाबा को श्रद्धा अर्पित करने के लिए रात भर भजन और कीर्तन गाए जाते हैं। सभी धर्मों और जातियों के लोग बड़ी संख्या में इस वार्षिक मेले में भाग लेने के लिए एकत्रित होते हैं। वे इस अवसर को प्रार्थना करने और उनके देवता बाबा रामदेव की पूजा करने के लिए आदर्श समय मानते हैं।लोग मेले के दौरान भक्ति में सराबोर होकर गाते हैं और नृत्य करते हैं। वे बाबा रामदेव के समाधि के पास स्थित बाबा रामदेव के मंदिर में प्रार्थना करते हैं। रामदेव जी को भक्त चावल, नारियल, चूरमा और लकड़ी के घोड़े अर्पित करते हैं।


रामदेव जी मंदिर मेला और उत्सव भाद्रपद महीने में आयोजित होता है। यह मेला भाद्रपद के दशम को समाप्त होता है। यहां मनाए गए वार्षिक मेला उत्सव में हजारों लोग भाग लेते हैं।

समाधि समिति के अनुसार, सावन और भाद्रपद के महीनों के दौरान 50 लाख लोग रामदेवरा पहुंचते हैं। दैनिक आधार पर, रामदेवरा गांव में आने वाले तीर्थयात्रियों की अनुमानित संख्या लगभग 5,000-10,000 रहती है। मंदिर में भक्तों का अत्यंत विश्वास और आस्था है। इस कारण यहाँ का वायुमंडल पर विश्वास और भक्ति से आवेशित हो जाता है। अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करने के लिए कई भक्त पूरे वर्ष भर मंदिर में आते हैं तथा बाबा की पूजा अर्चना करते हैं।

महत्वपूर्ण मेला उत्सवों  की सूची-


1. भद्रपद मेला उत्सव

2. सावन मेला उत्सव

Source- Devasthan Depatment Rajasthan

2 टिप्पणियाँ:


  1. Really I like your Blog! Thanks to Admin for Sharing such useful Information related to Hair Care Tips. I bookmarked this link. Keep sharing good Articles. Addition to your Story here I am Contributing few more Similar Stories.
    Natural Weight Loss Remedies
    Best Eye Drop

    Baba Ramdev Medicines

    Baba Ramdev Products


    Satta King

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.