12/30/2018 10:49:00 am
1

एमएसएमई विकास संस्थान (एमएसएमई-डीआई), जयपुर

MSME का शब्द विस्तार एवं अर्थ -

MSME - Micro, Small & Medium Enterprises 

अर्थ - सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम

एमएसएमई विकास संस्थान (एमएसएमई-डीआई), जयपुर 14, जनवरी 1958 को स्थापित किया गया था।  यह राजस्थान राज्य में लघु उद्योगों के प्रोत्साहन और विकास में संलग्न प्रमुख संस्थान है। संस्थान द्वारा प्रदान की जाने वाली महत्वपूर्ण परामर्श सेवाओं में तकनीकी, आर्थिक और प्रबंधकीय सेवाएं एवं नई इकाई स्थापित करने के लिए आवश्यक जानकारी के रूप में मूल इनपुट प्रदान करना शामिल हैं। इसके द्वारा उद्यमियों को उपयुक्त रूप से निर्देशन प्रदान किया जाता है ताकि वे अपने उद्यम शुरू कर सकें। यह संस्थान जयपुर के बाईस गोदाम औद्योगिक क्षेत्र  में स्थित है।
संस्थान के महत्वपूर्ण कार्यों में राज्य में एमएसएमई क्षेत्र को प्रदान की जाने वाली सहायता और परामर्श सेवाएं निम्नानुसार हैं:
1. भावी उद्यमियों और मौजूदा इकाइयों के लिए सहायता व परामर्श

2. राज्य औद्योगिक प्रोफ़ाइल, जिला औद्योगिक संभावना सर्वेक्षण, नमूना सर्वेक्षण और उत्पादन सूचकांक आदि का निर्माण

3. परियोजना प्रोफाइल, व्यवहार्यता रिपोर्ट आदि का निर्माण व  अद्यतन करना

4. उद्यमिता विकास कार्यक्रम, प्रबंधन विकास कार्यक्रम, कौशल विकास कार्यक्रम, प्रोत्साहन अभियान का आयोजन

5. हाल ही में, संस्थान राजस्थान राज्य में लघु उद्योग क्लस्टर विकास कार्यक्रम के तहत क्लस्टर विकास के लिए कार्य कर रहा है

6. वेंडर विकास और उप अनुबंध को बढ़ावा देना और प्रोत्साहित करना

7. गुणवत्ता नियंत्रण और उन्नयन, ऊर्जा संरक्षण / ऊर्जा लेखा परीक्षा (ऊर्जा ऑडिट), प्रदूषण नियंत्रण संबंधी गतिविधियाँ

8. कंप्यूटर प्रशिक्षण कार्यक्रम

9. सामान्य सुविधा कार्यशाला

10. निर्यात प्रोत्साहन

11. फील्ड टेस्टिंग स्टेशन के माध्यम से परीक्षण सुविधाएं

12. बैंक / वित्तीय संस्थानों के लिए परियोजना मूल्यांकन

13. स्टोर्स के निरीक्षण में राजस्थान लघु उद्योग निगम (RSIC) को सहायता

14. तकनीकी निरीक्षण रिपोर्ट देकर NSIC के प्रचार के माध्यम से विपणन सहायता

15. तकनीकी मामलों में उद्योग निदेशालय को सहायता

संस्थान ISO-9000, ISO-14001, HACCP, Bio Technology, MSMEs पर WTO का प्रभाव, प्रासंगिक संपत्ति अधिकार, अपशिष्ट न्यूनीकरण आदि जैसे विषयों पर प्रौद्योगिकी उन्नयन कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है।
संस्थान निम्नलिखित विषयों में मार्गदर्शन प्रदान करता है: -
  •      1. मैकेनिकल

         2. रसायन

         3. ग्लास और मिट्टी के पात्र

         4. चमड़ा और जूते

         5. इलेक्ट्रॉनिक्स

         6. धातुकर्म

         7. विद्युत

         8. औद्योगिक प्रबंधन और प्रशिक्षण

         9. आर्थिक जांच

    MSME की परिभाषा-

    MSMED अधिनियम -2016 के अनुसार, निम्नलिखित उद्यम चाहे वह प्रोपराइटरशिप, हिंदू अविभाजित परिवार, व्यक्तियों का संघ, सहकारी समिति, साझेदारी, उपक्रम या किसी अन्य कानूनी इकाई को जिस भी नाम से बुलाते हैं - जो उद्योग (विकास और विनियमन) अधिनियम 1951 की पहली अनुसूची के अनुसार किसी भी विनिर्माण या माल के उत्पादन से संबंधित है, MSME होंगे -

    * सूक्ष्म उद्यम: जिसमें संयंत्र व मशीनरी में अचल संपत्तियों में निवेश 25 लाख रुपये से अधिक नहीं है 

    * लघु उद्यम: जिसमें संयंत्र और मशीनरी में अचल संपत्ति में निवेश 25 लाख रुपये से अधिक है, लेकिन 5 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

    * मध्यम उद्यम: जिसमें संयंत्र और मशीनरी में अचल संपत्ति में निवेश 5 करोड़ रुपये से अधिक है। लेकिन 10 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

    सेवाएँ उपलब्ध कराने या प्रतिपादन करने में लगे हुए उद्यम के मामले में-

    * सूक्ष्म उद्यम: जिसमें संयंत्र और मशीनरी में अचल संपत्तियों में निवेश 10 लाख रुपये से अधिक नहीं है
    * लघु उद्यम: जिसमें संयंत्र और मशीनरी में अचल संपत्तियों में निवेश 10 लाख रुपये से अधिक है, लेकिन 2 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।
    * मध्यम उद्यम: जिसमें संयंत्र और मशीनरी में अचल संपत्तियों में निवेश 2 करोड़ रुपये से अधिक है। लेकिन 5 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

    विश्व व्यापार संगठन (विश्व व्यापार संगठन)-

    भारत सरकार ने वैश्वीकरण और खुली अर्थव्यवस्था की नीति के साथ, लघु उद्योग, जो भारतीय अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है, के सुचारू कामकाज के लिए कई सुरक्षा उपायों को अपनाया है। इसलिए एमएसएमई क्षेत्र के हित में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) संवेदीकरण पर कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।

MSME Development Institute (MSME-DI), Jaipur


Expansion and meaning of MSME -

MSME - Micro, Small & Medium Enterprises

MSME Development Institute (MSME-DI), Jaipur was set up on 14th January 1958 and is engaged in promotion and development of Small Scale Industries in the State of Rajasthan. The important consultancy services provided by the Institute include techno-economic and managerial services and basic input in the form of information required to set up new unit. The entrepreneurs are guided suitably to enable them to start their own ventures.


MSME-DI Jaipur is located at Bais Godam Industrial Estate, Jaipur.

The important functions of the institutes are assistance and consultancy services rendered to the MSME Sector in the State are as under :
1. Assistance/consultancy to prospective entrepreneurs and existing units.
2. Preparation of State industrial profile, District Industrial potential surveys, sample surveys etc and production indices.
3. Preparation/updation of project profiles, feasibility reports etc.
4. Organising Entrepreneurial Development Programmes, Management Development Programmes, Skill Development Programmes Motivational campaigns.
5. Recently, the institute is warping for cluster development in the State of Rajasthan under Small Industry Cluster Development Programme.
6. Promote and encourage Vendor Development and Sub Contracting.
7. Quality Control and Upgradation, Energy Conservation/Energy Audit, Pollution Control related activities.
8. Computer Training Programmes
9. Common facility workshop.
10. Export Promotion.
11.. Testing facilities through Field Testing Station.
12. Project Appraisal for bank/Financial Institutions
13.. Help to Rajasthan Small Industries Corporation (RSIC) in Inspection of Stores.
14. Marketing support through NSIC enlistment by giving technical inspection reports
15. Support to Directorate of Industries in technical matters
The institute is also organising technology upgradation programmes on subjects like ISO-9000, ISO-14001,HACCP, Bio Technology, effect of WTO on MSMEs, Intectual property rights, waste minimizations etc The Institute provides guidance in the following disciplines:-
1.     Mechanical
2.     Chemical
3.     Glass & Ceramics
4.     Leather & Footwear
5.     Electronics
6.     Metallurgy
7.     Electrical
8.     Industrial Management & Training
9.     Economic Investigation

 Definition of MSME-

As per MSMED Act-2006, following enterprises whether Proprietorship, Hindu Undivided Family, Association of persons, Co-operative Society, Partnership, Undertaking or any other legal entity by whatever name called - in case enterprise engaged in the Manufacturing or Production of Goods pertaining to any industry as per First Schedule to the Industries (Development & Regulation) Act 1951 as-
*     Micro Enterprises: in which the investment in fixed assets in plant and Machinery does not exceed Rs. 25 Lacs (Rupees Twenty Five Lacs Only) 

*     Small Enterprises : in which the investment in fixed assets in plant and Machinery is more than Rs. 25 Lacs (Rupees Twenty Five Lacs Only) but does not exceed Rs. 5 Crore. 

*     Medium Enterprises : in which the investment in fixed assets in plant and Machinery is more than Rs. 5 Crore. but does not exceed Rs. 10 Crore. 

In case of Enterprises engaged in providing or Rendering Services as- 


*     Micro Enterprises: in which the investment in fixed assets in plant and Machinery does not exceed Rs. 10 Lacs (Rupees Ten Lacs Only) 

*     Small Enterprises : in which the investment in fixed assets in plant and Machinery is more than Rs. 10 Lacs (Rupees Ten Lacs Only) but does not exceed Rs. 2 Crore. 

*     Medium Enterprises : in which the investment in fixed assets in plant and Machinery is more than Rs. 2 Crore. but does not exceed Rs. 5 Crore. 

WORLD TRADE ORGANISATION (WTO) 

With the policy of globalisation and opening of economy, the Govt. of India has adopted a number of safety measures for the smooth functioning of small scale sector an important pillar of indian economy. Hence Programme on WORLD TRADE ORGANISATION (WTO) sensitisation are organized in the interest of MSME Sector.

1 टिप्पणियाँ:

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.