12/16/2018 01:21:00 pm
6

राजस्थान में पहने जाने वाले कर्ण आभूषण - 


बेडला, लेर, ओगनियां, झुतना और जुबी:


बेडला गोल या लंबा दोनों होता है और कान के ऊपरी भाग में पहना जाता है। शादीशुदा महिलाएं दो या तीन बेडले एक साथ पहनती है। बेडला हुक के साथ छोटे तार होते हैं, जो अंतिम सिरे पर दिल के आकार के रूप में समाप्त होता है। कुछ थोड़े से बेडला के बदलाव कारण इसे लेर, ओगनियां, झुतना और जुबी के नाम से भी जाना जाता है। कानों के ऊपरी हिस्से पर पहना जाने वाला पान के पत्ते की आकृति के समान सोने में चांदी का आभूषण ओगनिया कहलाता है।


Bedla: 

The bedla is both round or lengthy and is worn on the higher area of the ear. Two or three are worn collectively by means of married females. Bedla are small hooked wires, with heart formed ends. Variations of the bedla are often referred to as lair, oganiya, jhutna and jubi.


झुमका; झूमर या झुमरी:


झुमका, झूमर या झुमरी राजस्थान के सबसे लोकप्रिय कर्ण आभूषणों में आते हैं। झुमके घंटी के आकार के एअरिंग्स होते हैं, जो सोने या चांदी में निर्मित किए जाते हैं। झुम्का लगभग 2.5 सेमी व्यास का एक खोखला अर्ध गोला होता है। इसके बाहरी भाग के साथ-साथ आन्तरिक भाग में भी संकेन्द्रीय वृत्त होते हैं। सबसे निचले वृत्त में सबसे कम लेकिन सबसे लंबी घंटी होती है। झुमका कर्णफूल की तरह होता है लेकिन इसके बीच में सोने के गोल बूंदे बने होते हैं और इनके चेन भी लगाई जाती है जो कानों के चारो ओर लपेटी जाती है। राजपूत और महाजन महिलाएं सोने के झुमके पहनती हैं, जो पचास ग्राम तक वजनी हो सकता है। अन्य समुदायों में, ये गहने चांदी में तैयार किए जाते हैं। एक अन्य प्रकार का झुमका जडाऊ भी होता है, जिसमें दुर्लभ और मूल्यवान रत्न जड़े जाते हैं। सोने या चांदी का कर्णफूल या झुमके के आकार का बिना चैन का बना आभूषण जिसके नीचे छोटी छोटी घुँघुरियाँ बनी होती है, को झुमकी या झूमर कहते हैं


Jhumka; Jhumar or Jhumri:

The jhumka, jhumar or jhumri are among the most popular ear ornaments in Rajasthan. They are bell-shaped earrings, made in gold or silver. The jhumka is a hollow hemisphere about 2.5 cm. in diameter, with bells of graded length strung in concentric circles on the outside as well as the inside. The innermost circle has the fewest but the longest bells. Rajput and Mahajan women wear gold jhumka, which weigh up to fifty grams. Among other communities, these ornaments are crafted in silver. one of a kind type of jhumka is in jadau, which is set with rare and valuable stones.


कुड़का:

कुड़का पीतल से बना होता है तथा यह बड़े पैमाने पर मेघवाल और सिंधी मुसलमान महिलाओं द्वारा पहना जाता है। इस कान की बाली में अलग-अलग आकार के दो अर्ध-गोलाकार भाग होते हैं, जिन्हें आपस में जोड़ा जा सकता है।  इसके प्रत्येक भाग के केंद्र में सामान्यतः एक रत्न भी स्थापित किया जाता है। छोटे बच्चों के कान छेद के सोने चांदी के तार पहनाए जाते हैं, उन्हें कुड़क कहते हैं। 


Kudka:

The kudka is made of brass and worn largely by Meghwal and Sindhi Musalman females. This earring has two semi-spherical elements of distinct sizes, which might be linked. The centre of each and every piece is usually set with a stone.


कुंडल:

कुंडल वृहद् सर्कल होते हैं, जिनकी सतह पर कीमती पत्थर (रत्न) जड़े होते हैं और विपरीत पक्ष पर सामान्यतः मीनाकारी की गई होती है।


Kundal: 

Kundal are enormous circlets, set with precious stones on their surface and usually enamelled on the reverse side.


मुरकी; झालर; बाला; पांडा:


ये एक तरह के कान गहनों में से एक हैं और आमतौर पर मुस्लिमों द्वारा पहने जाते हैं। ये वलय आकार के होते हैं तथा ये वलय हरे व गुलाबी रत्नजडित होते हैं। मुरकियाँ नामक वलय पुरुषों व स्त्रियों दोनों द्वारा कान के अलग-अलग भागों पर पहने जाते हैं, लेकिन अधिकतर लोग इन्हें कान के मध्य भाग में पहनते हैं। पांडा कान के केंद्र में पहना जाता है। अधिकतम तीन वलयों वाली मुरकी को झालर कहा जाता है। बाला कभी-कभी कान के महत्वपूर्ण मोड़ के अन्दर पहना जाता है। सोने या चांदी की बारीक हल्की कुड़की को बाली कहते है।


Murki; Jhalar; Bala; Panda:


These are one of a kind ear ornaments and are usually worn by Muslims. They are round hoops embedded with green and pink stones. These rings are worn on quite a lot of ingredients of the ear. The panda is worn in the centre of the ear. The three pieces on the highest are referred to as jhalar.  A bala, is sometime worn within the vital fold of the ear and the murki, worn by both men and ladies, is on mid-part.


स्वर्गसिली या नस्बी:

कान के मध्य मोड़ को नस्बी के रूप में जाना जाता है और इस भाग में पहने जाने वाले गहने को नस्बी के नाम से संदर्भित किया जाता है। यह एक कान के केंद्र में पहनी जाने वाली सोने की एक छोटी-सी रिंग होती है। यह शादी के वधू द्वारा धारण की जाती है तथा इसे कभी नहीं हटाया जाता है। यहां कई लोगों के बीच एक फैशनेबल धारणा है कि जो लोग इस आभूषण को पहनते हैं, उनका स्वर्ग में स्थान सुरक्षित रहता है।

Svargsilli or Nasbi:


The middle fold of the ear is referred to as the nasbi and the adornment worn on this phase is referred after it. It is a small gold ring worn within the centre of one ear. It is put on the time of marriage and certainly not removed. There is a fashionable perception among the many individuals here is that people who put on this ornament secure a position for themselves in heaven.


तोती (टोटी) - दुरगला:

इस आभूषण में तोते के आकार में गठित चांदी या सोने के फ्लैट घुमावदार पीस होते हैं। इसमें लाल या हरे रत्नों से जडित प्रोजेक्शन होता है। इसके रिम पर खिले हुए एक फूल जैसी छोटा त्रिकोणीय उभार होता है। एक मोटी छड़  कान के लोब में से गुजरती है, जो इस लोब के आकार को समायोजित करने के लिए फैलती है। सभी समुदायों की विवाहित और अविवाहित महिलाएं कुछ परिवर्तनों के साथ अपने कानों को तोती-दुर्गल से सजाती हैं।


Toti - Duragala:


This ornament consists of a flat curved piece of silver or gold, formed like a parrot. It has a significant projection with a crimson or green stone set on it. Its rim has small triangular protrusions, resembling a flower in bloom. A thick rod at its again passes via the gap in the ear lobe, dilated to accommodate its size. Both married and single ladies throughout all communities adorn toti-durgal with some adaptations.

 

कर्णफूल :

कान के निचले भाग का पुष्पाकार आभूषण है जिसके बीच में नगीने जुड़े होते हैं। 

Karnphool:

Among whom Pushpakar ornament of the bottom of the ear stones are attached. 

पीपलपत्र :

कान के ऊपरी हिस्से में सोने चांदी का गोलाकार छेद करके पहना जाने वाला आभूषण पीपलपत्र या पीपल पन्ना कहलाता है। 

PAPAL PATRA:

Jewelry worn by circular holes of gold and silver in the upper part of the ear called Peepalpatra or Peepalpanna. 

गुड़दा :

सोने के तार के आगे मुद्रा के आकार का मोती पिरो कर कान में पहने जाने वाला आभूषण होता है।

Gudda:

The ear jewelery worn gold wire currency-shaped pearl stitch.


मोरुवर :

महिलाओं द्वारा कान में मोर रूपी आभूषण लटकाया जाता है जिसे मोरुवर कहते हैं।

Moruvar:

peacock-like jewelry is suspended in the ears by women, called Moruvr.

6 टिप्पणियाँ:

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.