10/28/2016 03:41:00 pm
6







राजस्थान सम्पूर्ण राष्ट्र में अपनी संस्कृति तथा प्राकृतिक विविधता के लिए पहचाना जाता है। राजस्थान के रीति- रिवाज, यहां की वेशभूषा तथा भाषा सादगी के साथ-साथ अपनेपन का भी अहसास कराते है। राजस्थान के लोग रंगीन कपड़े और आभूषणों के शौकीन होते हैं। राजस्थान के समाज के कुछ वर्गों में से कई लोग पगड़ी पहनते हैं, जिसे स्थानीय रूप से पेंचा, पाग या पगड़ी कहा जाता है। पगड़ी राजस्थान के पहनावे का अभिन्न अंग है। बड़ो के सामने खुले सिर जाना अशुभ माना जाता है। यह लगभग 18 गज लंबे और 9 इंच चौड़े अच्छे रंग का कपड़े के दोनों सिरों पर व्यापक कढ़ाई की गई एक पट्टी होती है, जिसे सलीके से सिर पर लपेट कर पहना जाता है। पगड़ी सिर के चारों ओर विभिन्न व विशिष्ट शैलियों में बाँधी जाती है तथा ये शैलियां विभिन्न जातियों और विभिन्न अवसरों के अनुसार अलग-अलग होती है। किसी व्यक्ति का समुदाय और जाति को उसकी पगड़ी के रंग एवं उसे बाँधने की शैली से कुछ हद तक पहचाना जा सकता है- जैसे विश्नोई हमेशा सफेद साफा बांधते हैं, राईका-रेबारी लाल टूल का साफा बांधते हैं, तो लंगा-मांगणियार, कालबेलिया आदि रंगीन छापल डब्बीदार भांतवाले साफे बांधते हैं। कलबी लोग सफेद, कुम्हारमाली लाल, व्यापारी वर्ग लाल, फूल गुलाबी, केसरिया, जवाई इत्यादि रंग की पगड़ियां बांधते हैं। रियासती समय में,पगड़ी को उसे पहनने वाले की प्रतिष्ठा (आन) के रूप में माना जाता था।

रियासत काल से लोग विभिन्न प्रकार की पगड़ियों जैसे लहरिया, सोना के किनारे वाली, लप्पेदार, कोर तुर्रा वाली, मौलिया चस्मई पीला, मौलिया पंचरंगी, मौलिया कसूमल सब्ज, कसूमल घोटेदार लहरदार, गंगा-जमुनी, पोतिया कसूमल, पोतिया किरमिची आदि। इसके अलावा सोने-चांदी वाली चौकी, विलायती मलमल या चंदेरी पोत की पाग विवाह के अवसर पर पहनी जाती थी। मारवाड़ी पाग या चोंचदार पाग ध्यानाकर्षण का केंद्र होती है। शोक के अवसर पर काले और सादे सफेद रंग की पगड़ी प्रयोग होता है। हरे और नीले आदि का प्रयोग किसी भी उदासीन अवसर पर किया जाता है। सम्प्रदाय के अनुसार भी पगड़ियों के रंग विभिन्न होते हैं, जैसे- रामस्नेहियों का रंग सफेद, कबीर सम्प्रदाय का रंग लाल एवं पगड़ी मन्दिर के शिखर के समान आकार की बांधते हैं। नाई, जोगियों, गुरड़ों-स्वामियों, मठाधीशों एवं सन्यासियों की पगड़ी का रंग जोगिया या भगवा होता है। गुरड़े भगवी पगड़ी पर काली डोरी बांधते हैं।

विविध प्रकार की पगड़ियाँ- 

  • 14-20 मीटर पाग- लहरिया, मौलिया (बहुरंगी पोतिया) मोठड़ा और चूंदड़ी आदि

  • 13-15 मीटर पाग-  इसे पगड़ी कहते हैं
  •  पेंचा - ये अन्य प्रकार की पाग है जिसके एक सिरे पर गोल्डन जरी के झब्बों के साथ सजाया होता है।
  • साफा - ये पाग से छोटा किन्तु चौड़ा होता है। साफा इस प्रकार से बांधा जाता है कि इसके एक छोर पर कपड़ा सिर से पीठ पर कमर तक नीचे लटका होता है।
  • फेंटा- ये सोने-चांदी के कलात्मक कार्य से सजा होता है।
  • पोतिया - यह आम व्यक्ति द्वारा पहनी जाती है। पोतिया सामान्य तौर पर ही सिर पर लपेट कर पहना जाता है।
  • पाग, पगड़ी, पेंचा और मादिल एक ही रंग के कपड़े की होती है और इनको एक तरफ से पूरी लंबाई में जरी की एक पट्टी से सजाया हुआ होता है। यदि यह लम्बाई में बड़ी है तो पाग, छोटी है तो पगड़ी लेकिन यदि रंगीन तथा अन्तिम छोर (छेला) जरी का बना हो तो पेच कहलाती है।

पगड़ी के रंगों के प्रतीक-

  • ·        गहरे रंग की पगड़ियों का प्रयोग सर्दियों के मौसम में किया जाता है क्योंकि गर्मी के मौसम में पसीने के कारण इनका रंग पसीने के साथ बहने लगेगा, अतः गर्मी के मौसम के लिए हल्के रंगों को चुना जाता है।
  • ·        इस्तेमाल किए जाने वाले विभिन्न रंगों में कसूमल (लाल) और केसरिया (भगवा) का मारवाड़ के सामाजिक रीति-रिवाजों में विशेष महत्त्व होता है।
  • ·        केसरिया (भगवा) रंग राजपूतों की बहादुरी, वीरता, बलिदान और साहस का प्रतीक था तथा यह युद्ध के दौरान पहना जाता था।
  • ·        रंग कसूमल (लाल) प्रेम और खुशी भी का प्रतीक था। यह शादी और त्योहारों के अवसर पर पहना जाता था।
  • ·        केसरिया पाग भी बरसात के मौसम के दौरान पहनी जाती थी। जैसे ही यह पाग बरसात के पानी से गीली हो जाती थी तो केसर की खुशबू प्रदान करती थी क्योंकि इसे केसर के फूलों के साथ रंगा गया होता था।
  • ·        किसी के पिता की मृत्यु पर 12वें दिन ज्येष्ठ पुत्र को पगड़ी बंधवाकर घर का उत्तराधिकारी घोषित किया जाता है।
  • ·        सफेद रंग की फागणिया पाग में दोनों सिरों पर लाल बंधेज होती है और पूरी पाग में लड्डू-भांत होती है। फागणिया पाग को मार्च महीने में फाल्गुन मास में होली के त्यौहार के दौरान पहना जाता है।
  • ·        अक्षय तृतीया (आखा तीज) को राजस्थान में सबसे शुभ दिन माना जाता है। इस दिन पर एक केसरिया पाग पहनने की प्रथा है।
  • ·        दीपावली के अवसर पर मोर गर्दनी पाग (मोर के गर्दन के रंग वाली पाग) को पहना जाता है।
  • ·        विभिन्न त्यौहारों जैसे रक्षाबंधन आदि और शादी जैसे अवसरों पर मोठड़ा पाग को पहना जाता है।
  • ·        जयपुर की लहरिया पगड़ी को राजशाही पगड़ी कहते हैं। पंचरंगी पाग या पेंचे का प्रयोग जयपुर राजघराने में अधिक था।
  • ·        मेवाड़ की पगड़ी चपटी, मारवाड़ की छज्जेदार, और जयपुर की खूंटेदार होती है।
  • ·        पगड़ी बांधना एक कला है। जयपुर के आखिरी खास बंधेरा (पगड़ी बांधने वाला) सूरज बख्श को जागीर प्रदान की गई थी।
  • ·        पगड़ी पर राजा लपेटा बांधते थे तथा इसमें गहने, कलंगी, चन्द्रमा, तुर्रा आदि लगाए जाते थे।
  • ·        मेवाड़ महाराणा की पगड़ी बांधने वाला छाबदार कहलाता था। उसके पास पगड़ी के जेवर एवं अन्य संबंधित वस्तुएं होती थी।
  • ·        पाग-पगड़ियों का उल्लेख बड़े विस्तार से कपड़ों के कोठार बही में महाराजा मानसिंह पुस्तक प्रकाश में उपलब्ध है। महाराजा मानसिंहजी के काल की विक्रम सं. 1879 की कपड़ों के कोठार की बही संख्या 28 एवं 14 में विभिन्न प्रकार के पागों की विगत मिलती है, जिनमें मुख्य रूप से पाग चन्देरी, पाग वजवाड़ा, पाग शाहगढ़, पाग चीररी, पाग सुफेद ढ़ाकारी-ओटे पले की, पाग बूसी की, पाग तासकी, पाग चिटलरी, पोतीयो-गुजराती, पाग पूरझसार की चौकड़ी की, पाग लफादार, पाग नागोरण, मोलीया अमरसाही अनार का, पोतीया शीफोन का, पाग बांधणु, पाग दीरवश की, पंचा तास रुपेरी, पाग जुसीरी, पाग किरमची इत्यादि प्रकार की पागे विभिन्न परगनों से आयात की जाती थीं। इनमें नागोरण पाग, ढाका की मलमली पाग, दीलीकी सफेद पाग, वीरानपुरी पाग, विशनपुरी पाग महाराजा विजयसिंहजी के शासनकाल वि. सं 1843 में प्रसिद्ध थी।

पगड़ियों के मुख्य रंग

रियासत की बहियों में पागों के विभिन्न रंगों का भी उल्लेख प्राप्त होता है, जैसे-  कसूमल, कस्तूरिया, गुलनार, मोठड़ा, बूंटीदार, केरी भांत, तोरी-फूली, सिन्दूरिया, फागुणियां, सुआपंखी, अमरसिया, आभावरणी सोसनी, जवाई, फूल बुआड़ी, मलयागिरी, समदर लहर, राजाशाही, बीदामी, किरमची रंग की तथा छापल सुनहरी पागों का उल्लेख विभिन्न कपड़ों के कोठार की बहियों में मिलता है।

मारवाड़ की लोकप्रिय ऐतिहासिक पगड़ियां -

1. खिड़किया पाग -  

खिड़किया पाग का प्रचलन 17 वीं सदी तक था। इसे शाही लोगों के साथ-साथ आम लोगों द्वारा पहना जाता था। वर्तमान में इसे नहीं पहना जाता है। यद्यपि, पिछली दो शताब्दी से खिड़किया पाग का प्रयोग गणगौर के अवसर पर केवल इसरी महाराज के लिए किया जाता है। पाग के लिए पहले पीतल या तांबे का एक साँचा तैयार किया जाता था। इस साँचे पर, नरम सूती वस्त्र की परतों को जमाया जाता है और इसे सिलाई के साथ एक विशिष्ट आकार दिया जाता था। इसके ऊपर बंधेज के कपड़े या खीमखाप और मोती आदि के साथ सजा कर इसे पहना जाता था। जोधपुरी खिड़किया पाग का सामने का भाग ऊँचा तथा दूसरा पिछला भाग नीचा हुआ करता था। जोधपुर के महाराजा तखत सिंह और उनके बेटे महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय-कभी कभी खिड़किया पाग पहनते थे। लेकिन जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है खिड़किया पाग का वर्तमान काल में प्रचलन नहीं है। महाराजा अजीत सिंह के शासनकाल के दौरान शाही और कुलीन वर्ग के लोग खिड़किया पाग को प्रयुक्त करते थे। सरदार लोग उनके साफे को सजाने के लिए जरी का प्रयोग किया करते थे। एक सुनहरी कलंगी के साथ भी पगड़ी को सजाने का प्रचलन था। विशेष अवसरों पर महाराजा उनकी पगड़ी पर एक कलंगी रखकर सरदारों का सम्मान किया करते थे।

2. तखतशाही पाग -

महाराजा तखत सिंह को महाराजा मान सिंह द्वारा गुजरात से गोद लिया गया था। इसलिए उनकी पोशाक और साहित्यिक कृतियों में गुजराती प्रभाव देखा जा सकता है। इसी कारण उनकी पगड़ी पर भी गुजराती प्रभाव था। उनका पाग एक अजीब आकार की थी। यह लम्बी, ट्यूबलर और ऊँची होती थी। यह एक तरह से खिड़किया पाग के समान में बनी होती थी। पाग को जरी के काम से अलंकृत किया होता था और इस पर एक सरपेच तथा मोती की कई लडियां एक तरफ जुडी होती थी एवं इसकी चोटी पर एक तुर्रा संलग्न लगाया जाता था।

3. जसवंत शाही पाग -  

हालांकि महाराजा जसवंत सिंह विभिन्न तरह की खिड़किया पाग के पहनते थे, किन्तु उनकी पाग तखतशाही से अलग थी। उन्होंने बंटदार या दोराग पाग को लोकप्रिय बनाया। पाग को एक छोर पर बाईं आंख के ऊपर लपेटा जाता है यह पाग एक टोपी जैसी लगती थी। पाग के एक छोर पर एक छोटे सी लटक छोड़ दी जाती थी जिसे वापस सिलकर ऊपर की तरफ कर दिया जाता था और पाग के लिए सिले किया गया था। यह पाग वर्ष 1893 के बाद लोकप्रिय हुई।

4. जालिम शाही या राठौड़ी पाग -  

महाराजा जालिम सिंह महाराजा  तखत सिंह के पुत्र थे। उन्होंने जसवंत शाही पाग को अपनाया और उसमें कुछ परिवर्तन किये। तखतशाही पाग को दो भागों में विभाजित किया होता था। महाराजा जालिम सिंह को विभाजन हटा दिया है और इसकी लंबाई को कम कर दिया तथा इसे और अधिक टोपीनुमा बना दिया। पाग के एक छोर पर जरीदार पल्लू सिला होता था। यह पाग एक तरह से खिड़किया पाग के समान बनाई जाती थी।

5. जोधपुरी साफा -

मारवाड़ में महाराजा अजीत सिंह-प्रथम से महाराजा मान सिंह जी (1843 ईस्वी) के शासनकाल से फेंटा भी प्रचलित था। लेकिन कहा जा सकता है कि वर्तमान रूप में प्रचलित जोधपुरी साफा महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय के शासनकाल से प्रचलित हुआ था। इस साफे के आकार को महाराजा जसवंत सिंह द्वितीय की तस्वीरों में देखा जा सकता है। यह साफा महाराजा सुमेर सिंह को द्वारा भी अपनाया गया था।

6. विजयशाही पाग -  

विजयशाही पाग महाराजा विजय सिंह के पश्चात लोकप्रिय हुई थी। महाराजा विजय सिंह के शासनकाल के दौरान, वहां कपड़ा का कोठार बही में पागों के कई संदर्भ उल्लेखित हैं। ये इस प्रकार हैं- गुरु पाग, भोम पाग, सुकर पाग, सोम पाग, पाग तासरी, सोना री पाग सफेद, बुद्ध पाग, पाग कसूमल, पाग कसूमल बांधुन, पाग लाल एकदानी, पाग जुमरादी और चिकरनी आदि। इनके अलावा चंदेरी, सेला, सहगढ़, मौलिया, तंजेब री, बड़ोलिया और आबसाई आदि के लिए संदर्भ आते हैं।

मेवाड़ की विशिष्ट पगड़ियां-

मेवाड़ की पगड़ी खिड़कीदार (कुलेदार) होती थी। यह पगड़ी कपड़े की इमली पर बांधी जाती थी। इसमें सिर को पूरा ढकने के लिए रुई का सीधा खग होता था।

1. उदयशाही पगड़ी-


इसे मध्यकाल में महाराणा उदय सिंह द्वारा किया जाता था। इस पगड़ी में खग एक तरफ रहता था, जिसमें जरी लगायी जाती थी। इस पर तीन पछेवड़िया और चन्द्रमा बांधा जाता था।

2. अमरशाही पगड़ी-

महाराणा अमर सिंह द्वारा प्रयुक्त इस पगड़ी में पीछे एक पासा और बीच में जरी होती है। इसके पीछे दो पछेवड़िया बाँधी जाति थी। खग में किरण और मोतियों की लड़ लगायी जाती थी।

3. अरसीशाही पगड़ी-

महाराणा अरि सिंह (1761-73 ई.) के काल से अरसीशाही पगड़ी का चलन भी हो गया था। इसमें खग तीखा और रूईदार होता था। इसके अन्दर ओटों में रूई रहती थी। इसमें तीन पछेवड़ी और अन्य जड़ाऊ जेवर होते थे।

4. भीमशाही पगड़ी-

महाराणा भीम सिंह (1778-1828 ई.) के काल से भीमशाही पगड़ी का बंधेज शुरू हो गया था। इसमें खग मोटा और तोते की नाक की तरह निकला एक तरफ झुका होता था। इसके सामने के ओटे बटदार होते थे।

5. स्वरुपशाही पगड़ी-

स्वरूपशाही पगड़ी का बंधेज महाराणा स्वरुप सिंह (1842-61 ई.) में शुरू हुआ था। यह रूई की दो इमलियों पर बंधी जाती थी। इसके खग और बीच के पासे में जरी लगती थी और आग्या खाली रहता था।

6. मेवाड़ के सामंतों की पगड़ियां -


सलूम्बर की चूंडावतशाही पगड़ी के बंधेज में कपड़े की इमली तीन पासे, पासों तथा सर पर जरी और आग्या सामने होता था। देवगढ़ की जसवंतशाही पगड़ी बिना इमली की होती थी। इसमें केवल पगड़ी का खग निकाला जाता था। कानोड़ की मांडपशाही पगड़ी में तीन पासे होते हैं जिनमे जरी लगाई जाती थी। इसका आग्या बाजू पर रहता था। बदनोर की राठौड़ी पगड़ी में बंधेज बाएँ ओर होता था। भैन्सरोड़गढ़ की मानशाही पगड़ी बटदार होती थी। इसमें इमली नहीं होती थी। ठेठ तक गुम्बदनुमा आंठे चलते थे। बनेड़ा की हमीरशाही पाग अरसीशाही पाग से मिलती जुलती थी। इससे पूर्व यहाँ के रावले में खिड़कीदार पगड़ी पहनी जाती थी।

 राजस्थान का साफा-

राजस्थान में पुरूष सिर पर साफा बांधते रहे हैं। साफा सिर्फ एक पहनावा नहीं है। राजस्थान में नौ माह लगभग गर्मी पड़ती है और तीन माह तेज गर्मी पड़ती है। ऐसे में साफे की कई परतें सिर को लू के थपेड़ों और तेज धूप से बचाती हैं। राजस्थान वीरों की भूमि भी रही है। यदा कदा यहां भूमि और आन के युद्ध से भी गुजरना पड़ता था। ऐसे में आपात प्रहार से बचने में भी साफा रक्षा का काम किया करता था। शादी के समय साफे का रंग- केसरिया या चूँदडी, मारवाड़ में राजघराने में पीठी के समय कांभा- साफा, राखी के दिन बहन मोठड़ा साफा लाती है।

6 टिप्पणियाँ:

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.