1/04/2015 10:49:00 am
20


राजस्थान के प्रसिद्ध साके एवं जौहर

राजस्थान के गौरवशाली इतिहास में "जौहर तथा साकों" का अत्यंत विशिष्ठ स्थान है। यहाँ के रणबाँकुरे वीर राजपूत सैनिकों तथा उनकी स्त्रियों ने पराधीनता को स्वीकार करने की बजाए सहर्ष मृत्यु का आलिंगन करते हुए अपनी जान मातृभूमि पर न्यौछावर कर दी। जौहर व साका उस स्थिति में किए गए जब शत्रु को घेरा डाले बहुत अधिक दिन हो गए और अब युद्ध लड़े बिना नहीं रहा जा सकता।

 

जौहर-

युद्ध के बाद महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों व व्यभिचारों से बचने तथा अपनी पवित्रता कायम रखने हेतु महिलाएं अपने कुल देवी-देवताओं की पूजा करके जलती चिताओं में कूद पड़ती थी। वीरांगना महिलाओं का यह आत्म बलिदान का कृत्य जौहर के नाम इतिहास में विख्यात हुआ।

 

साका-

महिलाओं को जौहर की ज्वाला में कूदने का निश्चय करते देख पुरूष केशरिया वस्त्र धारण कर मरने मारने के निश्चय के साथ दुश्मन सेना पर टूट पड़ते थे। इसे साका कहा जाता है।

 

1. चित्तौड़गढ़ के साके-

चित्तौड़ में सर्वाधिक तीन साके हुए हैं।

 

> प्रथम साका-

यह सन् 1303 में राणा रतन सिंह के शासनकाल में अलाउद्दीन खिलजी के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय हुआ था। इसमें रानी पद्मनी सहित स्त्रियों ने जौहर किया था।

 

> द्वितीय साका-

यह 1534 ईस्वी में राणा विक्रमादित्य के शासनकाल में गुजरात के सुल्तान बहादुरशाह के आक्रमण के समय हुआ था। इसमें रानी कर्मवती के नेतृत्व में स्त्रियों ने जौहर किया था।

 

तृतीय साका-

यह 1567 में राणा उदयसिंह के शासनकाल में अकबर के आक्रमण के समय हुआ था जिसमें जयमल और पत्ता के नेतृत्व में चित्तौड़ की सेना ने मुगल सेना का जमकर मुकाबला किया और स्त्रियों ने जौहर किया था।

 

2. जैसलमेर के ढाई साके-

 

जैसलमेर में कुल ढाई साके होना माना जाता है। इसके तीसरे साके में वीरों ने केसरिया तो किया था किन्तु जौहर नहीं हुआ इस कारण इसको अर्ध साका कहा जाता है।

 

प्रथम साका-

जैसलमेर में पहला साका अलाउद्दीन खिलजी के आक्रमण के समय हुआ था। दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने विशाल सेना के साथ आक्रमण कर दुर्ग को घेर लिया था। इसमें भाटी शासक रावल मूलराज, कुंवर रतन सिंह सहित अगणित योद्धाओं ने केसरिया किया एवं ललनाओं ने जौहर किया।.

 

द्वितीय साका-

यह फिरोजशाह तुगलक के आक्रमण के समय हुआ। रावल दूदा त्रिलोकसी तथा अन्य भाटी सरदारों व योद्धाओं ने शत्रु सेना से लड़ते हुए वीरगति पाई और जैसलमेर की वीरांगनाओं ने जौहर किया।

 

तृतीय साका (अर्ध साका)-

यह लूणकरण के शासन काल में कंधार के शासक अमीर अली के आक्रमण के समय हुआ था। इसमें वीरों ने केसरिया तो किया (लड़ते हुए वीरगति पाई) लेकिन जौहर नहीं हुआ अतः इसे अर्ध साका ही माना जाता है। यह घटना 1550 ईस्वी की है।

3. गागरोण के किले के साके-

 

प्रथम साका-

1423 ईस्वी में अचलदास खींची के शासन काल में माण्डू के सुल्तान होशंगशाह उर्फ अलपखां गोरी के आक्रमण के समय हुआ था। अचलदास खींची री वचनिका में इसका विस्तार से वर्णन हुआ है।

 

द्वितीय साका-

यह सन् 1444 में माण्डू के सुल्तान महमूद खिलजी के आक्रमण के समय हुआ था।

 

4. रणथंभौर का साका- 

राजस्थान का प्रथम साका (राजस्थान का जल जौहर)

यह सन् 1301 में अलाउद्दीन खिलजी के ऐतिहासिक आक्रमण के समय हुआ था। इसमें हम्मीर देव चौहान विश्वासघात के परिणामस्वरूप वीरगति को प्राप्त हुआ तथा उसकी पत्नी रंगादेवी ने जौहर किया था। इसे राजस्थान के गौरवशाली इतिहास का प्रथम साका माना जाता है। इसमें हम्मीर देव की पत्नी रानी रंगादेवी ने रणथम्भौर दुर्ग स्थित पद्मला तालाब में कूदकर जौहर किया था, इस कारण इसे राजस्थान का जल जौहर भी कहते हैं। इतिहासकार इसे राजस्थान का प्रथम और एकमात्र जल जौहर भी कहते हैं

 

5. जालौर का साका-

कान्हड़देव के शासनकाल में 1311 - 12 में अलाउद्दीन खिलजी के आक्रमण के समय हुआ था।

 

6. भटनेर का साका-

1398 र्इ. में तैमूर लंग ने भटनेर पर आक्रमण किया। इसमें भटनेर दुर्ग का शासक दूलचंद भाटी युद्ध करता हुआ वीरगति हुआ। ऐसा माना जाता है कि भटनेर राजस्थान का एकमात्र दुर्ग है जिसमें हिन्दू महिलाओं के साथ मुस्लिम महिलाओं द्वारा भी जौहर किया था।

 

7. सिवाणा के साके-

 

पहला साका - 

1308 ई. में अलाउद्दीन खिलजी ने सिवाना के गढ़ पर आक्रमण किया। खिलजी के सेनापति कमालुद्दीन ने यहां परमार शासक वीर शीतलदेव (सातलदेव) के काल में किले को घेर लिया। तब यहाँ के शासक शीतलदेव (सातलदेव) और सोमेश्वर ने अलाउद्दीन खिलजी के आक्रमण का प्रतिरोध करते हुए प्राणोत्सर्ग किया। खिलजी ने सिवाना को जीतकर इसका नाम खैराबाद कर दिया था। उस समय पहला जौहर हुआ। 

 

दूसरा साका -

सिवाना का दूसरा साका ईस्वी सन् 1600 के आसपास अकबर के शासनकाल में हुआ था। जोधपुर के मोटा राजा उदयसिंह के नेतृत्व में अकबर की सेना ने सिवाना के शासक वीर कल्ला राठौड़ पर आक्रमण कर उसे पराजित किया। यहाँ के स्वाभिमानी शासक वीर कल्ला राठौड़ ने भीषण प्रतिरोध (युद्ध) करते हुए वीरगति प्राप्त की और महिलाओं ने जौहर व्रत किया। अकबर  ने मोटा राजा उदयसिंह को किला सुपुर्द किया। इन्होंने इस पर शासन किया।

20 टिप्पणियाँ:

  1. siwana durg me mota raja Udai singh (Akbar ke under me)aur Kalyan rathord
    ke beech saka kab hua.......please tell

    ReplyDelete
    Replies
    1. भी मोटा राजा उदय सिंह तो मारवाड़ का था

      Delete
    2. भी मोटा राजा उदय सिंह तो मारवाड़ का था

      Delete
    3. सिवाना का साका कल्ला रायमलोत के समय हुआ था यह साका मोटा राजा उदयसिंह के आक्रमण के समय हुआ था जो अकबर के कहने पर युद्ध करने आया था
      सिवाना का पहला साका सितलदेव के समय हुआ था जिसका कारण अलाउद्दीन खिलजी था

      Delete
    4. अकबर की सेना का अधिपति मोटा राजा उदयसिंह ही थाईसवी सन सोलह सौ के आसपास जो कि सिवाना के दुर्ग का दूसरा साका हुआ था

      Delete
  2. Siwana durg me mota raja Udai singh (Akbar ke under me) aur Kalyan rathord ke beech saka kab hua....please tell

    ReplyDelete
  3. फिरोजशाह तुगलक का शासन काल क्या था?

    ReplyDelete
  4. जैसलमेर का पहला और दूसरा साका कब हुआ था?

    ReplyDelete
  5. Chitod ka 2nd saka to 1535 me hua ta sir

    ReplyDelete
    Replies
    1. chitoud ka 2nd saka 1534 me hua tha jisme kesariya kiya vaagsigh ji ne or jouhar kiya rana sanga ki rani karmavati ne (jo us samay k rana vikramaditya ki maa thi or rana ki umar chhoti thi) malwa k bahadur sah k samay

      Delete
  6. जैसलमेर का प्रथम शाका कब हुआ था सन् बताना

    ReplyDelete
  7. Kya sir, siwana 1308 bhi sake me include hai. Plz reply sir

    ReplyDelete
  8. राजस्थान मे कुल कितने साके हुए थे

    ReplyDelete
  9. सिवाना के साके-
    1. सिवाना गढ़ पर 1308 में अलाउद्दीन खिलजी ने आक्रमण किया और इतिहासकार मानते हैं कि लंबे समय तक गढ़ के घेरा डालकर बैठे रहे अलाउद्दीन से यहां के परमार शासक ने डटकर मुकाबला किया। खिलजी ने सिवाना को जीतकर इसका नाम खैराबाद कर दिया था। उस समय पहला जौहर हुआ। खिलजी के सेनापति कमालुद्दीन ने यहां शासक सातलदेव के काल में किले को घेर लिया।

    2. कल्ला की महारानी, बहन और क्षत्राणियों ने किया जौहर-
    ईस्वी सन् 1600 के आसपास अकबर की सेना ने सिवाना दुर्ग पर आक्रमण किया। वीरता से लड़ते हुए शासक राव कल्ला राठौड़ शहीद हुए। इस पर रानियों ने किले में जौहर किया। अकबर की सेना ने जोधपुर के मोटा राजा उदयसिंह को किला सुपुर्द किया। इसके बाद इस दुर्ग पर जोधपुर महाराजा का आधिपत्य रहा। इन्होंने इस पर शासन किया।

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"

राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

विषय सूची

Rajasthan GK (432) राजस्थान सामान्य ज्ञान (373) Current Affairs (254) GK (240) सामान्य ज्ञान (157) राजस्थान समसामयिक घटनाचक्र (129) Quiz (126) राजस्थान की योजनाएँ (106) समसामयिक घटनाचक्र (103) Rajasthan History (90) योजनाएँ (85) राजस्थान का इतिहास (52) समसामयिकी (52) General Knowledge (45) विज्ञान क्विज (40) सामान्य विज्ञान (34) Geography of Rajasthan (32) राजस्थान का भूगोल (30) Agriculture in Rajasthan (25) राजस्थान में कृषि (25) राजस्थान के मेले (24) राजस्थान की कला (22) राजस्थान के अनुसन्धान केंद्र (21) Art and Culture (20) योजना (20) राजस्थान के मंदिर (20) Daily Quiz (19) राजस्थान के संस्थान (19) राजस्थान के किले (18) Forts of Rajasthan (17) राजस्थान के तीर्थ स्थल (17) राजस्थान के प्राचीन मंदिर (17) राजस्थान के दर्शनीय स्थल (16) राजस्थानी साहित्य (16) अनुसंधान केन्द्र (15) राजस्थान के लोक नाट्य (15) राजस्थानी भाषा (13) Minerals of Rajasthan (12) राजस्थान के हस्तशिल्प (12) राजस्थान के प्रमुख पर्व एवं उत्सव (10) राजस्थान की जनजातियां (9) राजस्थान के लोक वाद्य (9) राजस्थान में कृषि योजनाएँ (9) राजस्थान में पशुधन (9) राजस्थान की चित्रकला (8) राजस्थान के कलाकार (8) राजस्थान के खिलाड़ी (8) राजस्थान के लोक नृत्य (8) forest of Rajasthan (7) राजस्थान के उद्योग (7) राजस्थान सरकार मंत्रिमंडल (7) वन एवं पर्यावरण (7) शिक्षा जगत (7) राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (6) राजस्थान की झीलें (5) राजस्थान की नदियाँ (5) राजस्थान की स्थापत्य कला (5) राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल (5) Livestock in Rajasthan (4) इतिहास जानने के स्रोत (4) राजस्थान की जनसंख्या (4) राजस्थान की जल धरोहरों की झलक (4) राजस्थान के संग्रहालय (4) राजस्थान में जनपद (4) राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन (4) राजस्थान रत्न पुरस्कार (4) राजस्थान सरकार के उपक्रम (4) राजस्थान साहित्य अकादमी (4) राजस्थानी साहित्य की प्रमुख रचनाएं (4) विश्व धरोहर स्थल (4) DAMS AND TANKS OF RAJASTHAN (3) Handicrafts of Rajasthan (3) राजस्थान की वन सम्पदा (3) राजस्थान की वेशभूषा (3) राजस्थान की सिंचाई परियोजनाएँ (3) राजस्थान के आभूषण (3) राजस्थान के जिले (3) राजस्थान के महोत्सव (3) राजस्थान के राज्यपाल (3) राजस्थान के रीति-रिवाज (3) राजस्थान के लोक संत (3) राजस्थान के लोक सभा सदस्य (3) राजस्थान में परम्परागत जल प्रबन्धन (3) Jewelry of Rajasthan (2) पुरस्कार (2) राजस्थान का एकीकरण (2) राजस्थान की उपयोगी घासें (2) राजस्थान की मीनाकारी (2) राजस्थान के अधात्विक खनिज (2) राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र (2) राजस्थान के जैन तीर्थ (2) राजस्थान के प्रमुख शिलालेख (2) राजस्थान के महल (2) राजस्थान के लोकगीत (2) राजस्थान बजट 2011-12 (2) राजस्थान मदरसा बोर्ड (2) राजस्थान में गौ-वंश (2) राजस्थान में पंचायतीराज (2) राजस्थान में प्राचीन सभ्यताएँ (2) राजस्थान में मत्स्य पालन (2) राजस्‍व मण्‍डल राजस्‍थान (2) राजस्थान का खजुराहो जगत का अंबिका मंदिर (1) राजस्थान का मीणा जनजाति आन्दोलन (1) राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार (1) राजस्थान के कला एवं संगीत संस्थान (1) राजस्थान के चित्र संग्रहालय (1) राजस्थान के तारागढ़ किले (1) राजस्थान के धरातलीय प्रदेश (1) राजस्थान के धात्विक खनिज (1) राजस्थान के विधानसभाध्यक्ष (1) राजस्थान के संभाग (1) राजस्थान के सूर्य मंदिर (1) राजस्थान दिव्यांगजन नियम 2011 (1) राजस्थान निवेश संवर्धन ब्यूरो (1) राजस्थान बार काउंसिल (1) राजस्थान में चीनी उद्योग (1) राजस्थान में प्रथम (1) राजस्थान में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक (1) राजस्थान में यौधेय गण (1) राजस्थान में वर्षा (1) राजस्थान में सडक (1) राजस्थान राज्य गैस लिमिटेड (1) राजस्थान राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (1) राजस्थान राज्य सड़क विकास एवं निर्माण निगम (1) राजस्थान सुनवाई का अधिकार (1) राजस्थानी की प्रमुख बोलियां (1) राजस्थानी भाषा का वार्ता साहित्य (1) राजस्थानी साहित्य का काल विभाजन- (1) राजस्‍थान राज्‍य मानव अधिकार आयोग (1) राज्य महिला आयोग (1) राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र बीकानेर (1) सिन्धु घाटी की सभ्यता (1)
All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.